Fri. Jul 19th, 2024

एसडीपी रक्तदान के जरिए पीएस एफ रक्तदाता निभा रहा हैं मानव धर्म

 

    1. *नियमित रूप से जमशेदपुर ब्लड बैंक के एक आह्वान पर प्रतिक संघर्ष फाउंडेशन के नियमित रक्तदाता जमशेदपुर ब्लड बैंक पहुंचकर एसडीपी रक्तदान करते हुए पेश कर रहे हैं एक मिसाल. आज इसी कड़ी में ” अजीत कुमार भगत ” ने जहां अपना 25 बा सिंगल डोनर प्लेटलेट्स यानी एसडीपी रक्तदान करते हुए अपना 62 वा स्वैच्छिक एवं सुरक्षित रक्तदान के आंकड़े को पूर्ण किया. ठीक उसी के साथ-साथ अपने जन्मदिन को समर्पित करते हुए शहर से काफी दूर निवास करने वाले, कर्मठ योद्धा सह रक्तदाता ” मनोतोष घोषाल ” रात्रि बेला 9 बजे जमशेदपुर ब्लड बैंक पहुंचकर एक जीवनदाई बनते हुए, अपना दूसरा सिंगल डोनर प्लेटलेट्स यानी एसडीपी रक्तदान करते हुए जहां अपना 41 वा स्वैच्छिक एवं सुरक्षित रक्तदान के आंकड़े को पूर्ण किया. वहीं इसी रक्तदान के जरिए इन रक्तदाताओं ने यह साबित किया, की पीएसएफ के द्वारा चलाया जा रहा जीवन बचाने के इस अभियान में, समय इनके लिए कोई महत्व नहीं रखता. प्रतीक संघर्ष फाउंडेशन एवं जमशेदपुर ब्लड बैंक के आह्वान पर मध्य रात्रि बेला भी आकर रक्तदान करने में इनके कदम पीछे नहीं हटेंगे. आज इन्हीं दो रक्त दाताओं के एसडीपी रक्तदान से प्रतीक संघर्ष फाउंडेशन ने अपना ” 303 बा एसडीपी रक्तदान ” को भी पूर्ण कर लिया. रक्तदान के पश्चात दोनों रक्त दाताओं को जहां जमशेदपुर ब्लड बैंक की ओर से प्रशस्ति पत्र देकर एवं प्रतीक संघर्ष फाउंडेशन के दीप सेन के द्वारा प्रतीक चिन्ह देकर सम्मानित किया गया. इस मौके पर जमशेदपुर ब्लड बैंक के जीएम संजय चौधरी, अनुभवी एवं वरीय चिकित्सक लव बहादुर सिंह, अनुभवी तकनीशियन मनोज कुमार महतो, सुभोजीत मजूमदार, धीरज कुमार, अनूप कुमार श्रीवास्तव, सह तकनीशियन स्वपन, प्रतीक संघर्ष फाउंडेशन से निर्देशक अरिजीत सरकार एवं किशोर साहु. उपस्थित रहे

Related Post