Tue. Jul 23rd, 2024

हत्या को लेकर महुआडांड़ रांची-नेतरहाट सड़क किया गया जाम, डीएसपी के आश्वासन के बाद हटा जाम।

हत्या को लेकर महुआडांड़ रांची-नेतरहाट सड़क किया गया जाम, डीएसपी के आश्वासन के बाद हटा जाम।

महुआडांड़ संवाददाता शहजाद आलम की रिपोर्ट

कुरो गांव निवासी रेमोन गिद्ध (23) की 16 अगस्त की रात हुई हत्या के आरोप में हत्यारों की गिरफ्तारी के लिए बुधवार की शाम आठ गांव के ग्रामीणों ने थाना का घेराव किया था, थाना प्रभारी के आश्वासन से संतुष्ट नही होने पर ग्रामीण आपनी मांगो को लेकर गुरुवार सुबह पांच बजे से रांची-नेतरहाट रोड एसएच नौ कूड़ो कला मोड़ स्थित गांव परहाटोली पंचायत के विश्रामापूर, शाहपुर, बोडाकोना, नगर प्रतापपूर, कुरो, उदालखाड़, दातुखाड़, डूमरडीह के ग्रामीणो ने पांच घंटे तक सड़क जाम रखा. इस दौरान रांची, गुमला, लोहरदगा जाने वाले यात्री बस एवं निजी वाहन की कतार सड़क पर लगी रही, जिससे यात्रीयों को भारी परेशानी का सामना करना पड़ा. इस दौरान मरीज लेकर जाने वाले एम्बुलेंस को छूट दिया गया।

 

महुआडांड़ थाना प्रभारी आशुतोष यादव जाम स्थल पर दल बल के साथ जाम स्थल पर पहुंचे.उन्होने कहा एक व्यक्ति को पकड़कर लाया गया है, पुलिस अपने स्तर से पूछताछ कर करी है. लेकिन थाना प्रभारी की बात लोग मानने को तैयार नही थे,और पुलिस प्रशासन मुर्दाबाद का नारा लगा रहे थे।

 

जाम स्थल में बैठे परहाटोली पंचायत की पंसस निर्मला टोप्पो, मुखिया रीता खलखो, चंपा पंचायत मुखिया सुषमा कुजूर, आदिवासी नेता लुईस कुजूर की मांग थी, कि आदिवासी मृतक के परिवार को उचित मुआवज़ा दिया जाए, मृतक की पत्नी को नौकरी दिया जाए, और मृतक के दो छोटे-छाटे बच्चो को बेहतर शिक्षा का प्रबंध किया जाए, वही मुखिया रीता खलखो ने कहां कि जब तक जिला से कोई आला अधिकारी नही पहुंचते तब तक हमलोग सड़क जाम नही खोलेंगे।

 

लगभग सुबह 10 बजे महुआडांड़ के डीएसपी राजेश कुजूर, महुआडांड़ सीओ प्रताप टोप्पो भी जाम स्थल पर पहुंचे, डीएसपी श्री कुजूर ने ग्रामीणों को बताया कि कुछ लोग को गुरूवार सुबह थाना प्रभारी के द्वारा थाना लाया गया है. आपलोग जाम खोल दे, अन्य मांगो को लेकर हम बैठक कर आपस में वार्ता करेंगे, जहां लुईस कुजूर ने रेमोन गिद्ध की हत्या को माबलिंचिग ठहराते हुए कहा कि थाना प्रभारी सही से जांच-पड़ताल नही कर रहे है, क्योंकि एक विशेष समुदाय ने मिलकर रेमोन गिद्ध को मारा है, और इसकी लाश जंगल में फेक दिया गया था, रेमोन गिद्ध के खेत को उदालखाड़ के शिव शंकर यादव के मवेशी चर गया था, जिसका मुआवजा मांगने रेमोन गिद्ध शिव शंकर यादव के पास गया था और हत्या कर दी गई।

 

पंसस निर्मला टोप्पो ने कहा कि उदालखाड़ यादव बहुल गांव है, सभी के पास मवेशी है, जिसे यह खुला छोड़ देते है, आस पास के गांव आदिवासी बहुल गांव है, जो खेती पर निर्भर है,खरीफ फसल के धान की खेती को मवेशी चर जा रहे है, किसान परेशान है, एक तो कम बारिश ने पहले ही किसान की कमर तोड़ रखी है, उदालखाड़ के यादव समाज के मवेशी जब खेती खाता है, तो किसान जब इसे लेकर मुआवज़ा मांगने जाते है, तो उसके साथ मारपीट किया जाता है, उग्रवादी की धमकी दी जाती है, ऐसे में आदिवासी समुदाय डर के साये में इनकी धमकी से सहमा रहता है, जब कोई हिम्मत किया तो उसकी हत्या कर दी गई.

महुआडांड़ संवाददाता शहजाद आलम की रिपोर्ट

सभी की बातो को सुनते हुए डीएसपी राजेश कुजूर ने आश्वासन दिया कि छूट्टे मवेशी और खेती को लेकर एक बैठक कि जाएगी, आस पास के सभी किसानों व यादव समाज को भी बुलाकर बैठाक कर वार्ता किया जाएगा, सीओ प्रताप टोप्पो ने कहा महुआडांड़ में कांजी हाउस हो इसकी व्यवस्था कि जायेगी, तब जाकर ग्रामीणों के द्वारा जाम हटाया गया एवं वाहनों का परिचालन सुचारू रूप से चालू हुआ।

Related Post