Thu. Jul 18th, 2024

लातेहार में एई और जेई का जबरदस्त लूट जारी

डीएमएफटी योजना के तहत चंदवा प्रखण्ड में नव तालाब का निर्माण करना था जिसमे से दो धरातल पर ही नही सात बने भी है तो जैसे तैसे

 

*लातेहार में एई और जेई का जबरदस्त लूट जारी **

चंदवा संवाददाता मुकेश कुमार सिंह की रिपोर्ट

 

 

चंदवा। चंदवा एनआरईपी के कार्यपालक अभियंता दीपक कुमार,संवेदक सह कनीय अभियंता मनीष कुमार व बिचौलिए की मिलीभगत से लातेहार जिले के चंदवा प्रखंड के माल्हन पंचायत के बाद सासंग पंचायत में भी डीएमएफटी योजना में जमकर लूट मचाई गयी है।यहां विभागीय स्तर से खुदवाए गए तालाब निर्माण कार्य में भोले भाले गरीब ग्रामीणों को ठग एवं बेवकूफ बनाकर तालाब निर्माण योजना में घोर अनियमितता बरती गयी है और सरकारी राशि की लूट व बंदरबांट किया गया है। सासंग पंचायत में अवस्थित बुल्हु गांव में डीएमएफटी फंड की राशि से एक तालाब का निर्माण कार्य करवाया गया है।यह तालाब पुराने आहर में ही बना दिया गया है। इस तालाब निर्माण कार्य का योजना संख्या 173/2021-22 तथा योजना का नाम सुकर गंझू के जमीन पर तालाब निर्माण है। उक्त योजना को 200×200 फीट के आकार का खोदा जाना था।लेकिन यहां अभियंता व बिचौलिए ने मनमानी करते हुए पैसे बचाने के लिए पुराने आहर में ही दो तरफ से मिट्टी डालकर मेढ़ बना दिया एवं उसे तालाब का रुप दे दिया।।यह कहा जाय कि कनीय अभियंता मनीष कुमार ने अपनी काबलियत से नाला में ही तालाब बना दिया।चर्चित अभियंता ने जिस तरह योजनाओं को अंजाम देकर सरकारी राशि को लूटा है उसे देखकर लगता है कि सरकारी नियम- कानून इसके लिए कोई मायने नहीं रखते ।वह जो चाहे या कर दे वही नियम और कानून है।जब दैनिक आजाद सिपाही ने जमीन मालिक से बात की तो वह हैरान रह गया। गौरतलब हो कि सासंग पंचायत का चयन खनन प्रभावित क्षेत्र के रुप में किया गया है।डीएमएफटी की राशि का लूट मचाने के उद्देश्य से यहां दो तालाब व 10 पीसीसी सड़क का निर्माण किया जा रहा है।सभी योजनाओं में अभियंताओं व बिचौलियों की मिलीभगत से सरकारी राशि का बंदरबांट किया गया है।जिले में डीएमएफटी के तहत 28 तालाब निर्माण की योजनाओं को एनआरईपी के कार्यपालक अभियंता दीपक कुमार के नाम से इकरारनामा किया गया। दीपक कुमार ने इन योजनाओं का इकरारनामा अपने विभाग के जूनियर इंजीनियर के नाम ना कर ऊंची पैरवी तथा पहुंच रखने वाले कल्याण विभाग के चर्चित कनीय अभियंता मनीष कुमार के नाम से किया।यहां से लूट का खेल चालू हुआ अब कनीय अभियंता मनीष कुमार इन योजनाओं के स्वयं अभिकर्ता भी हो गए और इंजीनियर भी इसके बाद इस अभियंता ने यहां के भोले- भाले एवं सीधे-साधे ग्रामीणों को अपने खास बिचौलियों के माध्यम से बेवकूफ बनवा कर इस पंचायत के अत्यंत सुदूरवर्ती जगहों में योजनाओं का निर्माण करवाने की शुरूआत की। विगत 30 मार्च 2022 को जिले में आयोजित निगरानी एवं पर्यवेक्षण समिति (दिशा) की बैठक में जिला कार्यक्रम पदाधिकारी द्वारा उपायुक्त को जो रिपोर्ट सौंपी गई है उसमें इस योजना में भी कार्य प्रगति पर बतलाते हुए योजना की आधी राशि 9 लाख 80 हजार 8 सौ 50 रुपए की निकासी की जा चुकी है। यह राशि कि निकासी मार्च में ही कर लिया गया है। योजना में काम कर रहे एई दीपक कुमार और जेई मनीष कुमार से पूछे जाने पर किसी भी योजना के बारे अस्पष्ट जवाब नहीं देते हैं और कहते हैं कि अभी हम बाहर आए हुए हैं।

Related Post