Sun. Jul 21st, 2024

महुआडांड़ के सभी मस्जिदों में अदा की गई रमजानुल मुबारक की पहले जुमा की नमाज,सभी मस्जिदों में अदा की जा रही है तरावीह।

 

महुआडांड़ के सभी मस्जिदों में अदा की गई रमजानुल मुबारक की पहले जुमा की नमाज,सभी मस्जिदों में अदा की जा रही है तरावीह।

 

प्रखंड के जामा मस्जिद, गौशिया मस्जिद मदीना मस्जिद व आसपास के गांव लुरगुमी, पहाड़कापु आदि इलाके में रमजान उल मुबारक के पहले जुमा की नमाज बड़ी अकीदत के साथ अदा की गई।सभी मस्जिदों में बड़ी संख्या में रोजेदारों ने जुमे की नमाज अदा की।जुमे की नमाज के बाद रोजेदारों ने अपनी दुआ में देश,प्रदेश की खुशहाली तथा अमन चैन व शांति के साथ ही कौम की तरक्की की भी दुआ मांगी।जामा मस्जिद में जुमे की नमाज से पहले अपने तकरीर में मौलाना सऊद आलम मिस्बाही ने कहा कि यह पूरा महीना खुदा की इबादत का महीना है। रमजान का महीना बहुत ही पवित्र और खुदा की रहमतों व बरकतों का नाजिल होने वाला महीना है।उन्होंने कहा कि रोजा पहली इबादत तथा दूसरी इबादत तरावीह का पढ़ना है।मुसलमानों के लिए यह महीना मगफिरत और दोजख से आजादी का महीना है।इस महीने के पहले दस दिन रहमतों के हैं,जिसमें अल्लाह अपने बंदों पर रहमतों की बारिश करता है।इस पाक महीने में खुदा अपने फजलों करम से नेकियों में सत्तर गुना की बढ़ोतरी कर देता है,यानी आप एक नेकी करोगे तो अल्लाह आपको उस एक नेकी का सवाब सत्तर नेकी के बराबर अता फरमाएगें।वही लोगो से इस महीने में ज्यादा से ज्यादा गरीबों की मदद करने, सदका करने और माल के हिसाब से जकात देने की गुजारिश की। वहीं इस महीने में रात को तीसो दीन तरावीह की नमाज़ अदा की जाती हैं। तरावीह की नमाज़ में पूरा क़ुरान शरीफ़ (30पारा) पढ़ कर सुनाया जाता है। प्रखंड के सभी मस्जिदों में तरावीह की नमाज़ भी अदा की जा रही है।

Related Post