कृषकों को बदनाम कर रहे असमाजिक तत्व ,झारखण्डधाम में कृषकों व युवाओँ ने की बैठक

0
451

गिरिडीह

झारखण्डधाम में कृषकों व युवाओँ की बैठक रविवार को हुई जिसमें कई महत्वपूर्ण निर्णय लिए गए।बैठक के बाद युवाओँ एवं कृषको ने एक संयुक्त प्रेस कांफ्रेंस किया।आयोजन जन सन्गठन जन जन की आवाज़ एवं सुकन्या राहत फाउंडेशन के संयक्त तत्वाधान में किया गया।दोनों संगठनों के प्रतिनिधियों ने प्रेस वार्ता में कहा कि गणतंत्र दिवस के मौके पर किसान सन्गठन के नाम पर असामाजिक तत्वों ने जो घिनौना कार्य किया उसकी जितनी निंदा की जाए कम है।कहा कि 70 साल में कृषकों की दशा क्यों नही सुधरी यदि पहले के कृषि कानून सही थे तो।कहा कि असली किसान तो खेतों और खलिहानों में हैं।कहा कि गिरिडीह में भी कानून ब्यवस्था सुदृढ नही दिखती।कहा कि मुस्कान हत्याकांड से पर्दा उठना चाहिए और हत्यारे को सजा मिलनी चाहिए।कहा कि झारखण्डधाम में स्वच्छता की कमी है।और पर्याप्त यात्री सुविधाक बावजूद लोग उसका लाभ नहीं ले पा रहे हैं।मांग किया कि नवनिर्मित विवाह भवन सर्किट हाउस को यात्रियों के लिए खोला जाए।आगामी 6 फरवरी को दोनों संगठनों का झारखण्डधाम में वन भोज सह मिलन समारोह होगा।प्रेस वार्ता में जन जन की आवाज़ के संस्थापक सुधीर द्विवेदी, सुकन्या राहत फाउंडेशन के संस्थापक सूर्यकांत वर्मा,सामाजिक कार्यकर्ता व कृषक नेता अवधेश सिंह, लखन मण्डल अलाउद्दीन अंसारी,युवा सन्गठन से रोहित राम जन जन की आवाज़ के कोषाध्यक्ष विवेक कुमार सहित कई लोग थे।

गिरिडीह से डिम्पल की रिपोर्ट