Thu. Jul 18th, 2024

आज नहाय खाय से शुरू हो रहा है छठ पूजा का महापर्व*

आज नहाय खाय से शुरू हो रहा है छठ पूजा का महापर्व*

 

महुआडांड़ संवाददाता शहजाद आलम की रिपोर्ट

महुआडांड़ प्रखंड अंतर्गत दिन शुक्रवार से छठ महापर्व की तैयारी जोरों में है ।वही शुक्रवार से पूरे साफ़ सफ़ाई के साथ छठ वार्तियो ने नहाय खाए के साथ आज से पूजा शुरू किए इस महापर्व में निर्जला उपवास कर किया जाता है ।छठ लोक आस्था का महापर्व है

वही इसे लेकर महुआडांड़ हिन्दू महासभा की तरफ़ से लागत मूल्य में सामग्री का वितरण किया जा रहा है जो भी छठवर्ती छठ सामग्री लेना चाहते है वे सभी हिंदू महासभा से संपर्क कर ले सकते है।

 

 

*आज नहाय खाय से शुरू हो रहा है छठ पूजा का महापर्व*

 

आज से देशभर में छठ मैया की पूजा और सूर्य उपासना का महापर्व शुरू हो रहा है. इस त्योहार को सूर्य षष्ठी के नाम से भी जाना जाता है. छठ पूजा के दिन भगवान भोलेनाथ की पूजा भी की जाती है. छठ पूजा का पर्व आरोग्य, समृद्धि और संतान के लिए रखा जाता है. यह 36 घंटे का निर्जला व्रत होता है. मान्यता है कि इस व्रत से अमोघ फल की प्राप्ति होती है.

 

पहले दिन नहाय खाय से शुरुआत

 

नहाय खाय से छठ पूजा की शुरुआत होती है. इस दिन व्रती नदी में स्नान करते हैं इसके बाद सिर्फ एक समय का ही खाना खाया जाता है. इस बार नहाय खाय की शुरुआत आज 28 अक्टूबर से हो रही है.

 

दूसरा दिन- खरना

 

छठ मैया की पूजा का दूसरा दिन ‘खरना’ कहलाता है. इस दिन विशेष भोग तैयार किया जाता है. इसके लिए शाम को मीठा भात (चावल) या लौकी की खिचड़ी खाई जाती है. वहीं इस महाव्रत का तीसरा दिन दूसरे दिन के प्रसाद के ठीक बाद शुरू हो जाता है. आपको बताते चलें कि इस साल 2022 में खरना 29 अक्टूबर को है.

 

तीसरा दिन- अर्घ्य

 

छठ पूजा की एक-एक विधि और नियम कायदे का अपना अलग धार्मिक और पौराणिक महत्व है. इस महापूजा के तीसरे दिन की भी अपनी अलग महिमा है. पूजा के तीसरे दिन शाम के समय भगवान सूर्य को अर्घ्य देने की परंपरा है. इस दौरान सभी व्रती श्रद्धालु अपनी-अपनी बांस की टोकरी में पूजा सामग्री के साथ फल, ठेकुआ और चावल के लड्डू भी रखते हैं. इस दौरान पूरे अर्घ्य के सूप को भी सजाया जाता है.

 

जब पूरे विधि-विधान से पूजा हो जाती है फिर सभी व्रती अपने परिजनों के साथ मिलकर अस्ताचल सूर्य यानी डूबते सूरज देवता को अर्घ्य देते हैं. यानी इस दिन डूबते सूर्य की उपासना की जाती है. छठ पूजा का पहला अर्घ्य इस साल 30 अक्टूबर को दिया जाएगा. इस दिन सूर्यास्त का समय 05 बजकर 34 मिनट से शुरू होगा. इसलिए इस समय को आपको जरूर नोट कर लेना चाहिए.

 

चौथा दिन- उगते सूर्य को अर्घ्य

महुआडांड़ संवाददाता शहजाद आलम की रिपोर्ट

चौथे दिन उगते हुए सूर्य को अर्घ्य दिया जाता है. ये अर्घ्य लगभग 36 घंटे के व्रत के बाद दिया जाता है. 31 अक्टूबर को उगते हुए सूर्य को अर्घ्य दिया जाएगा. इस दिन सूर्योदय इस उगते सूर्य को अर्घ्य देने के बाद इस विराट महापर्व और छठ मैया के व्रत का समापन होगा।

Related Post