Tue. Jul 23rd, 2024

बरवाडीह प्रखंड के 2011 से लापता बीएसएफ जवान बलराम भगत का अब तक न तो कोई सुराग मिला और न ही उनके परिजनों को जीवन यापन के लिए कोई सरकारी सहायता मिल पाई है। 

बरवाडीह प्रखंड के 2011 से लापता बीएसएफ जवान बलराम भगत का अब तक न तो कोई सुराग मिला और न ही उनके परिजनों को जीवन यापन के लिए कोई सरकारी सहायता मिल पाई है।

बरवाडीह प्रखंड के छेचा पंचायत अंतर्गत चपरी गाँव के रहने वाले बीएसएफ के जवान बलराम भगत के वर्ष 2011 में घर से ड्यूटी जाने के क्रम में लापता हो गए थे। इतने वर्ष बीत जाने के बाद भी परिजनों को कोई सहायता नहीं मिलने के कारण उनकी पत्नी सावित्री देवी और दो बेटियां उनके लौट आने की उम्मीद में कर्ज लेकर अपना जीवन यापन कर रही है।

भगत के लापता होने के बाद घर की आर्थिक स्थिति तो पूरी तरह चरमरा गई। पत्नी भी बेसुध होकर एक असहाय के रूप में अपना जीवन जी रही है। लगभग एक दशक बीत जाने के बाद भी बेटियां वित्तीय लाभ औऱ पेशन के लिए चक्कर काट रहीं हैं।

प्रखंड और थाना का चक्कर काट रही हैं बेटियां

जानकारी के अनुसार लापता होने के बाद प्रावधान के अनुसार 7 वर्ष से अधिक लापता रहने वाले जवानों के परिवार को वित्तीय लाभ और पेंशन की सुविधा देने को लेकर विभाग से मिले पत्र के अनुसार दस्तावेज जुटाने को लेकर उनकी बेटियां थाने और प्रखंड कार्यालय का चक्कर काट रही हैं। वित्तीय लाभ और पेंशन की सुविधा को लेकर बलराम भगत के लापता होने की प्राथमिकी के साथ प्रखंड कार्यालय से मृत्यु प्रमाण पत्र की जरूरत है जिसके बाद नियमानुसार लापता बलराम भगत को मृत मानते हुए उनके परिवार को सरकारी सहायता मिल सकेगी पर उनकी बेटी लंबे समय से विभाग को पत्र चार करने के साथ-साथ थाना और प्रखंड कार्यालय का चक्कर काट रही हैं मगर अब तक कोई सार्थक परिणाम निकल कर सामने नहीं आया है जिससे सरकारी सहायता मिलने की आस भी धीरे-धीरे साथ छोड़ रही है।

प्रधानमंत्री, गृहमंत्री, मुख्यमंत्री और स्थानीय सांसद से लगाई गुहार

लापता बीएसएफ के जवान बलराम भगत के परिवार को एक दशक के बाद भी सरकारी मदद नहीं मिलने के बाद उनके परिवार के जीवन यापन करने को लेकर सरकार से सरकारी सहायता मिले इसको लेकर अपना अधिकार अपना सम्मान मंच के सचिव संतोषी शेखर के द्वारा बलराम मदद की पत्नी और बेटियों से मुलाकात करते हुए पूरे मामले को लेकर प्रधानमंत्री गृह मंत्री ,सूबे के मुख्यमंत्री और स्थानीय सांसद सुनील सिंह को पत्र लिखकर सोमवार को अवगत कराया है। साथ गुहार लगाई है कि लापता बलराम भगत की पत्नी और बच्चों के जीवन यापन के लिए नियम संगत जल्द से जल्द सरकारी सहायता प्रदान की जाए ।

प्रमाण पत्र बनाने की प्रक्रिया जारी

लापता बीएसएफ के जवान बलराम भगत के बेटियों के द्वारा थाना प्रभारी और प्रखंड विकास पदाधिकारी से मृत्यु प्रमाण पत्र निर्गत करने को लेकर आवेदन दिए जाने के बाद प्रखंड विकास पदाधिकारी राकेश सहाय के द्वारा थाना प्रभारी से पुलिसिया जांच की रिपोर्ट मांगी गई है। साथ ही साथ प्रखंड विकास पदाधिकारी राकेश सहाय ने बताया कि पूरे मामले में वरीय अधिकारी से निर्देश प्राप्त करते सभी प्रक्रिया पूरी कर प्रमाण पत्र बनाया जायेगा।

Related Post