Mon. Jul 22nd, 2024

ऑटो ड्राइवर ने कोर्ट में कहा- नशे में था , इसलिए लगा धक्का

*ऑटो ड्राइवर ने कोर्ट में कहा- नशे में था , इसलिए लगा धक्का*

धनबाद। धनबाद के जिला एवं सत्र न्यायाधीश अष्टम उत्तम आनंद की मौत के मामले में मंगलवार को कोर्ट में दोनों आरोपियों ने सफाई बयान दर्ज कराया। ऑटो चालक लखन वर्मा और उसके साथी राहुल वर्मा को धनबाद मंडल कारा से सीबीआई के विशेष न्यायाधीश रजनीकांत पाठक की अदालत में पेश किया गया।कोर्ट में सफाई बयान देते हुए लखन वर्मा ने माना कि जज को टक्कर उसने मारी थी। वह नशे में था, इसलिए टक्कर लग गई। उसने जान-बूझकर जज को धक्का नहीं मारा था। घटना के दिन कथित तौर पर लखन वर्मा के साथ ऑटो में मौजूद रहे राहुल वर्मा ने कोर्ट में यूटर्न लेते हुए कहा कि लखन वर्मा उसे फंसा रहा है। उसका दुर्घटना से कोई लेना-देना नहीं है। कोर्ट में करीब दो घंटे तक आरोपियों का सफाई बयान लिया गया। सीबीआई के विशेष अभियोजक अमित जिंदल और बचाव पक्ष के अधिवक्ता कुमार विमलेंदु की उपस्थिति में कोर्ट ने आरोपियों से 79 सवाल किए। अधिकांश सवालों का जवाब आरोपियों ने ना में दिया।

दोनों ने ऑटो और मोबाइल चोरी की बात कबूली: दोनों आरोपियों ने स्वीकार किया कि वे मोबाइल, कीमती सामान और रुपए की आदतन चोरी करते थे। दोनों ने ऑटो चोरी करने की बात को स्वीकार करते हुए कहा कि ऑटो चोरी करने के बाद राहुल ने ईंट से पीछे का नंबर प्लेट खींचकर तोड़ दिया। फिर टूटे नंबर प्लेट को मंदिर के पास फेंक दिया, जबकि आगे का नंबर प्लेट लखन वर्मा ने तोड़ा था। घटना से पूर्व राहुल ने लखन को मोबाइल चोरी करने की बात कही थी।

पहिए के नीचे कुछ आने से बिगड़ा संतुलन: लखन वर्मा ने कोर्ट को बताया कि घटना के दिन वह नशे में था और गाड़ी धीरे चला रहा था। रणधीर वर्मा चौक के समीप उसके ऑटो के सामने चक्के के नीचे कुछ आ गया, जिससे उसका संतुलन बिगड़ गया और दुर्घटना घट गई। उसने जानबूझकर किसी को धक्का नहीं मारा है। उसका ऑटो जज साहब के शरीर में सिर्फ सटा था।

गाड़ी चोरी की थी, इसलिए लखन ने फंसाया: राहुल वर्मा ने लखन वर्मा पर आरोप लगाते हुए कहा कि लखन वर्मा ने उसकी गाड़ी चोरी कर ली थी, इस कारण उसकी लखन वर्मा के साथ मारपीट हुई थी। बदला लेने के उद्देश्य से लखन वर्मा ने मुकदमे में उसका नाम लेकर उसे फंसाया है। उसने यह भी आरोप लगाया कि जेल के अंदर लखन वर्मा ने उससे कहा था कि यदि वह उसे 50 हजार रुपए देगा, तो वह इस मुकदमे से उसका नाम हटवा देगा और कह देगा कि घटना में राहुल उसके साथ नहीं था। उसने यह भी आरोप लगाया कि लखन ने उसे धमकी देते हुए कहा था कि जज को मारने में देर नहीं लगी, अब उसकी और उसके पिता की भी हत्या कर देगा।

ऑटो चोरी मामले में मालकिन ने दी गवाही: जज उत्तम आनंद की मौत से संबंधित ऑटो चोरी के मामले में ऑटो की मालकिन सुगनी देवी ने मंगलवार को कोर्ट में अपनी गवाही दी। सीबीआई के विशेष न्यायिक दंडाधिकारी सह एसडीजेएम अभिषेक श्रीवास्तव की अदालत में गवाही देते हुए सुगनी देवी ने अभियोजन पक्ष का समर्थन किया तथा कहा कि उनके घर के सामने ऑटो लगा था, जिसे आरोपियों ने चुरा लिया। आरोपियों की ओर से कोर्ट में गवाह से जिरह आज नहीं हो सकी। कल बचाव पक्ष की ओर से गवाह से सवाल-जवाब किया जाएगा।

Related Post