Tue. Jul 23rd, 2024

झारखंड पुलिस को मिली बड़ी सफलता, पीएलएफआई सुप्रीमो और 25 लाख इनामी उग्रवादी दिनेश गोप गिरफ्तार की अफवा सोसल मीडिया पे

झारखंड पुलिस को मिली बड़ी सफलता, पीएलएफआई सुप्रीमो और 25 लाख इनामी उग्रवादी दिनेश गोप गिरफ्तार

पीएलएफआई सुप्रीमो और 25 लाख के इनामी नक्सली दिनेश गोप को झारखंड पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। हालांकि, इसकी अबतक कोई अधिकारिक पुष्टि नहीं हुई है। सूत्रों की मानें तो पोड़ाहाट जंगल के गुदड़ी, गोईलकेरा और बंदगांव थाना क्षेत्र के सीमावर्ती इलाकों में पीएलएफआई सुप्रीमो दिनेश गोप दस्ते के साथ सुरक्षाबलों की लगातार मुठभेड़ के बाद दिनेश गोप सरायकेला-खरसावां जिले के सीमावर्ती क्षेत्र में छिप गया था, जहां से उसकी गिरफ्तारी की सूचना मिल रही है।

खबर यह भी है कि दिनेश गोप के साथ पीएलएफआई उग्रवादी जिदन गुड़िया भी शामिल है। बता दें कि पिछले आठ दिनों से पश्चिमी सिंहभूम जिले के गुदड़ी थाना के पोड़ाहाट जंगल में पीएलएफआई और सुरक्षाबलों के बीच जंगल में लगातार आमना-सामना हो रहा था, इसके बाद से दिनेश गोप जंगल में भागा-भागा फिर रहा था। ऐसी खबरे लागतार सोसल मीडिया पे आ रही थी

वांही खूंटी एसपी ने कहा की

PLFI सुप्रीमो दिनेश गोप के गिरफ्तार होने की अफवाह, झूठी है गिरफ्तारी की खबरः खूंटी एसपी

 

खूंटीः झारखंड में नक्सली संगठन पीएलएफआई के नाम पर दशकों से आतंक मचाने वाले पीएलएफआई सुप्रीमो दिनेश गोप की गिरफ्तारी की चर्चा जिला में आग की तरह फैली। गुरुवार से खूंटी ही नहीं गुमला, सिमडेगा, चाईबासा जिला सीमावर्ती इलाके से उसकी गिरफ्तारी की चर्चा से ही शहर से गांव तक लोग खूंटी पुलिस की तारीफ तारीफ करते दिखे. लेकिन दिनेश की गिरफ्तारी की खबर झूठी निकली

 

खूंटी एसपी आशुतोष शेखर से बात की तो दिनेश की गिरफ्तारी को लेकर बात की इस पर उन्होंने कहा कि रांची, सिमडेगा, गुमला और चाईबासा जिला के किसी भी क्षेत्र से दिनेश गोप गिरफ्तार नहीं हुआ है. उन्होंने स्पष्ट तौर पर कहा कि दिनेश गोप की गिरफ्तारी खूंटी ही नहीं बल्कि पूरे राज्य के लिए एक बड़ी उपलब्धि होगी. उन्होंने ये भी कहा कि पीएलएफआई सुप्रीमो दिनेश गोप के खिलाफ विशेष अभियान चलाई जा रही है और कई बार पुलिस के साथ मुठभेड़ में भाग निकला है। दिनेश गोप के साथ हुए मुठभेड़ के बाद उसके कैंप का सामान बरामद हुआ है.पीएलएफआई का सुप्रीमो दिनेश गोप पर 25 लाख का इनाम है और उसके खिलाफ विभिन्न थानों में सैकड़ों मामले दर्ज हैं. खूंटी, सिमडेगा, गुमला, चाईबासा, सरायकेला, रांची, लोहरदगा से लेकर लगभग झारखंड के कई अन्य थानों में भी अपहरण, रंगदारी जैसे कई गंभीर कांड दर्ज है. इसके अलावा पुलिस के साथ मुठभेड़ और पुलिस पार्टी पर हमला से लेकर कई नक्सली कांडों में पुलिस को दिनेश गोप की गिरफ्तारी के लिए पुलिस लगातार अभियान चला रही है हाल के दिनों दिनेश गोप 8 बार मुठभेड़ में बच निकला है. एसपी ने कहा है कि जिस तरह से नक्सली संगठन के खिलाफ अभियान में तेजी आई है. उससे तो यही लगता है कि दिनेश गोप या तो मारा जाएगा नहीं तो गिरफ्तार होगा. उन्होंने नक्सली संगठन से अपील की है कि वो मुख्यधारा से जुड़ें और सरकार की आत्मसमर्पण नीति का लाभ उठाएं

Related Post