Sat. Jul 13th, 2024

सबर नगर में सबरों की बदहाल स्थिति: पैनल अधिवक्ता शमशाद खान

  1.  भारत के आजादी का 75 वां अमृत महोत्स्वव अभियान के तहत डालसा का मोबाईल वैन शुक्रवार को पोटका प्रखंड के उड़ीसा बॉर्डर के नजदीक पहाड़ पर स्थित सबर नगर में  पहुँचा । पोटका थाना से करीब 25 किलोमीटर दूर सबर नगर जंगल व पहाड़ के मनोरम छटा को याद दिलाता है और प्रकृति के गोद में बसा हुआ है । यह स्थान पर्यटकों के लिए रमणिक हो सकता है पर यहां रहने वाले सबर जाति आज भी विकास से कोसों दूर हैं और बदत्तर जिंदगी जी रहे हैं । डालसा टीम जब सबर जाति के लोगों से मिले और उनके रहन सहन को नजदीक से देखा तो सरकार की योजनाएं धरातल पर वहां फेल नजर आई । सबर लोग जर्जर मकान में रहने को विवस हैं । कई लोगों को सरकारी योजनाओं का लाभ नही मिल रहा है । अन्तोदय योजना के तहत उन्हें सिर्फ चाबल ही  मिलता है । लोगों में शिक्षा एवं जागरूकता की कमि होने से लोग गंदगी के बीच जीवन बसर करने को मजबूर हैं । वैसे तो सबर नगर में अनुसूचित जनजाति के लिए सरकारी आवासीय हाई स्कूल भी है । परन्तु सबर नगर में रहने वाले बच्चे को पढ़ने के लिए कोई नही प्रेरित करता । इसके अलावे सबर जाति के हित के लिए वहां भारत सेवाश्रम संघ का आश्रम भी है और साथ में आंगनवाड़ी केंद्र भी संचालित होता है । फिर भी सबर लोग फटेहाल जिंदगी जी रहे हैं । डालसा के पैनल अधिवक्ता शमशाद खान ने सबर नगर की दुर्दशा पर दुःख जताते हुए कहा कि सबर जाति के कल्याण के लिए हर साल लाखो करोड़ो रुपये विकास के नाम पर खर्च किये जाते हैं लेकिन जमीनी स्तर पर कुछ विकास नही दीखता । उन्होंने कहा कि दीपक तले अँधेरा की तरह सबर नगर के लोग जीवन यापन कर रहे हैं । डालसा टीम द्वारा सबर लोगों के बीच जागरूकता अभियान चलाकर उन्हें विधिक जानकारी दी गयी और कानून व  योजनाओं से सम्बंधित पम्पलेट व बुकलेट बितरित किया गया ।  इस अभियान में डालसा के पैनल अधिवक्ता शमशाद खान के अलावे अधिवक्ता सुरेश पांडेय  , पीएलवी नागेंद्र कुमार, अरुण रजक , चयन कुमार मंडल,डोबो चकिया व छाकू माझी मौजूद थे। इस अभियान के तहत शुक्रवार को पुरे जिले में डालसा द्वारा सघन जागरूकता अभियान चलाकर डोर टु डोर कम्पेनिंग किया गया ।

Related Post