Thu. Jul 18th, 2024

विस्थापितों को पुनर्वास स्थलों में जमीन का मालिकाना हक देना होगा

चांडिल। चांडिल प्रखंड के चिलगु पुनर्वास स्थल में विस्थापित मुक्ति वाहिनी नेता कपूर बागी के नेतृत्व में पंचायत भवन परिसर से लेकर एनएच 33 तिलका चौक तक पैदल मार्च निकाली गई। हाथों में महात्मा गांधी की फोटो एवं तख्तियां लेकर यह पैदल मार्च निकली, जिसमें जोर शोर से नारेबाजी भी हुई। सामाजिक कार्यकर्ता अरविंद अंजुम ने कहा कि विस्थापित मुक्ति वाहनी सभी पुनर्वास स्थल का सीमांकन करने, विस्थापितों को आवंटित भूखंड को राजस्व अभिलेख में दर्ज करने, केंद्र सरकार से झारखंड प्रांत का जीएसटी एवं खनिज राजस्व का करीब 80 हजार करोड़ रुपये बकाया भुगतान करने की मांग की जा रही हैं। उन्होंने कहा कि इन मांगों को लेकर विस्थपित मुक्ति वाहिनी की ओर से गांधी जयंती के अवसर पर चांडिल डैम के नौका विहार में सत्याग्रह का आयोजन किया गया है। कहा कि जब तक हमारी मांगे पूरी नहीं हो जाती, तबतक चरणबद्ध तरीके से आंदोलन जारी रहेगा। ज्ञात हो कि चांडिल डैम के विस्थापितों को सरकार ने विभिन्न पुनर्वास स्थलों में जमीन आवंटित की है। जहां विस्थापित अपने जमीन करीब 30 वर्ष से बसे हुए हैं लेकिन आजतक न तो पुनर्वास स्थलों का सीमांकन हुआ है और न ही विस्थापितों को आवंटित भूखंडों का मालिकाना हक दिया गया है। पैदल मार्च में कपूर बागी, अरविंद अंजुम, बासुदेव आदित्यदेव, श्यामल मार्डी, राजेश सिंह मुंडा, सिलू सरना, बायला हांसदा, जगन्नाथ किस्कू, बहादुर माझी आदि मौजूद थे।

चांडिल से संजय शर्मा  7870123959

Related Post