Thu. Jul 18th, 2024

रेलवे अस्पताल ने रेलकर्मी को कोरोना संदिग्ध बता भटकने को किया मजबूर, तमाम यूनियनों में आक्रोश, शीघ्र करेंगे शिकायत

जमशेदपुर:-टाटानगर रेलवे अस्पताल में मंगलवार को भर्ती इलेक्ट्रीक लोको शेड के रेलकर्मी विशाल कुमार की तबीयत खराब होने पर कोरोना संदिग्ध बताकर रात 7 बजे एमजीएम अस्पताल रेफर कर दिया। वहाँ इधर उधर भटकने के बाद भी उसे एडमिट नहीं किया गया और कल आकर टेस्ट कराने की बात कही गई।वो पुनः रेल अस्पताल वापस आने के लिये रेलवे अस्पताल के चिकित्सकों से गुहार लगाई पर रेलवे अस्पताल उन्हें अपने पास रखने को तैयार नहीं हुये। वो देर रात तक एमजीएम के बाहर बैठा रहा। इस बात की जानकारी ओबीसी रेलवे इंप्लाइज एसोसिएशन के कार्यकारी अध्यक्ष सागर प्रसाद को मिली। जब उन्होंने इस मामले में पहल की तो उन्हें इलेक्ट्रिक लोको शेड के सीनियर डीईई/टीआरएस,टाटा ने करीब 10 बजे फोन कर बताया कि रोगी को रेलवे अस्पताल में या टेल्को में भर्ती नहीं ले रहा है। इसके पश्चात सागर प्रसाद ने रेलवे के डा.एस.के.बेहरा व डा.राजू महंता से बात की पर उनलोगों का रवैया सहयोगात्मक नहीं था। उसके बाद उनके द्वारा तार्किक सवालों के साथ मामले में उन्हें गंभीरता दिखाने की बात कहते हुए उन्हें उनकी जबावदेही का एहसास कराया गया।बहुत मशक्कत से बातचीत के बाद डा.महंता ने टेल्को अस्पताल से बात कर रात लगभग 12:45 बजे टेल्को अस्पताल हेतु कागज तैयार करवाया व एम्बुलेंस भेजवाकर एमजीएम से सीधे टाटा मोटर्स टेल्को अस्पताल भिजवाया।

बता दें कि कि इसी तरह की लापरवाही से विगत 30 जुलाई को कोरोना संदिग्ध एक रेलकर्मी राम भिखारी राम की मृत्यु रेल अस्पताल में हो गई थी।
इस संदर्भ में सागर प्रसाद का कहना है कि उनका सीधा सवाल आखिर कोरोना महामारी में भी अपनी जान की परवाह किये बिना कोरोना वैरियर के रुप में रेलकर्मी अपनी ड्यूटी निभा रहे हैं फिर उनके प्रति ऐसी उदासीन रवैया क्यों?
इधर दूसरी ओर इस मामले को लेकर ओबीसी यूनियन के सागर प्रसाद अपने सहयोगी रेलवे संगठनों जैसे मेंस यूनियन,स्वतंत्र रेलवे यूनियन,एससी/एसटी,एलआरएसए व ओबीसी एसोसिएशन के समक्ष उठाया।
इसके बाद तमाम यूनियनों ने एक सुर में इस कोरोना काल में रेलवे अस्पताल की कुव्यवस्था व चिकित्सकों के उदासीन रवैये पर नाराजगी जाहिर की। साथ ही कहा कि जल्द ही सब मिलकर इस संदर्भ से रेलवे के उच्च पदाधिकारियों को अवगत कराकर इसकी स्थायी समाधान की माँग करेंगे और टाटानगर रेलकर्मियों के लिए अलग से प्रस्तावित 50 बेड का कोविड केयर सेंटर जिसका निरीक्षण हो चुका है को शीघ्र शुरु करने की माँग करेंगें।साथ ही अस्पताल की असहयोगयात्मक रवैये के खिलाफ शिकायत रेल प्रबंधन के समक्ष रखेंगे ताकि रेलकर्मियों को सही चिकितकसीय सुविधा मिल सके।
इस बातचीत में मेंस युनियन के एम.के.सिंह,जवाहर लाल,एससी.एसटी एसोसिएशन के बिमल रजक,एल आर एस ए के पारस कुमार व एस आर बी के यु के निक्सन कुमार शामिल थे

Related Post