Fri. Jul 19th, 2024

लातेहार !धरती का अन्नदाता कहे जाने वाले जो मेघ पर आश्रित रहते हैं! वो किसान आसमान पर टकटकी लगाए बैठे हुए हैं!

लातेहार !धरती का अन्नदाता कहे जाने वाले जो मेघ पर आश्रित रहते हैं! वो किसान आसमान पर टकटकी लगाए बैठे हुए हैं!

जिला ब्यूरो बब्लू खान की कलम से

बता दें कि इन दिनों हुई पहली बरसात में कोसानो ने खरीफ की फसल का बीज लगा दी! जो फसल सिंचाई के अभाव में सूख रहे हैं!मक्का का बीज अंकुरित नही हो पाई है किसान हर दिन ऊपर देख देख कर आस टकटकी लगाए बैठे हैं! और पिछले 15 दिनों से उन्हें निराशा का ही सामना करना पड़ा रहा है! बरसात नहीं होने से किसान बहुत ही परेशान हैं! और चिंतित हैं! किसानों का कहना है अब भगवान भरोसे है बरसात न होना अकाल का लक्षण दिखाई दे रहा ।किसान चिंतित और मायूस है उम्मीद भरी नजरो से आसमान को निहारते है की आज बरसात होगी अब तक जिला में रोपा हो 80% हो जाता था पर अभी तक रोपा चालू भी नही हो पाया है किसानों में बेचनी देखी जा रही है।

Related Post