Sat. Jul 20th, 2024

रांची में पुलिसिया गोलीकांड और प्रदर्शनकारियों का पत्थरबाजी घटना दोनों गलत – माकपा

रांची में पुलिसिया गोलीकांड और प्रदर्शनकारियों का पत्थरबाजी घटना दोनों गलत – माकपा
चंदवा संवाददाता मुकेश कुमार

घटना में सीधे तौर पर रांची की पुलिस – प्रशासन जिम्मेदार

पुलिस ने गोली चलाकर अल्पसंख्यकों के साथ ज्यादती की है

चंदवा। माकपा के वरिष्ठ नेता अयुब खान ने एक प्रेस विज्ञप्ति जारी कर कहा है कि रांची में प्रदर्शनकारियों द्वारा की गई पुलिस पर पत्थरबाजी और इसके बाद पुलिस की ओर से लक्ष्य कर सीधे प्रदर्शनकारियों पर गोली चलाने की घटना दोनों गलत है,
रांची पुलिस पहले से सतर्क रहती और मेन रोड मे भारी पुलिस बंदोबस्त रहता तो इस प्रकार की घटना को रोका जा सकता था,
इस घटनाक्रम मे पुलिस की बर्बरता भी दिखाई पड़ी, पुलिस ने एक निहत्थे बच्चे को पकड़ कर उसे घेरकर लाठीयों से पिटाई की,
पुलिस ने प्रदर्शनकारियों पर काबु पाने के लिए न आंसु गैस छोड़े न पानी की बौछार की सीधे प्रदर्शनकारियों को गोली मारी है, पुलिस ने प्रदर्शनकारियों को निशाने पर लेकर गोलियां चलातीं, पुलिस ने गोली चलाकर अल्पसंख्यकों के साथ ज्यादती की है, इसके कई वीडियो वायरल हो रहे हैं, उनमें आप पुलिसकर्मियों को सामने से गोलियां चलाते देख सकते हैं,
इस घटना में सीधे तौर पर रांची की पुलिस प्रशासन ज़िम्मेवार है,
पुलिस ने गोलिया क्यों चलायी, किसके आदेश पर पुलिस ने गोली चली इसकी भी जांच होनी चाहिए, दरअसल देश के अंदर नफरत का जहर फैला दिया गया है, हमारे नौकरशाह भी उसी मानसिकता के अधीन हो गए हैं, इस वजह से ऐसी घटनाएं हो रही हैं,
पुलिस फायरिंग में अबतक दो लोगों की मौत हो चुकी है और इस घटना मे प्रदर्शनकारी व पुलिसकर्मी समेत डेढ दर्जन लोग घायल हुए हैं,
आम नागरिकों से माकपा अपील करता है कि अफवाहों पर ध्यान न दें और हर कीमत पर सद्भाव और एकता बनाए रखें,
माकपा ने राज्य सरकार से पुलिस फायरिंग के शिकार लोगों के समूचित ईलाज की व्यवस्था करने, मुआवजा देने, घटना की उच्चस्तरीय जांच कराने की मांग की है।

Related Post