खुशखबरी: एचसीएल को चालू वित्तीय वर्ष 2020-21 की पहली तिमाही में 29.69 करोड़ों रुपए मुनाफा

0
368
Hcl

घाटशिला:-हिंदुस्तान कॉपर लिमिटेड ( एचसीएल) के लिए लंबे समय बाद खुशखबरी सामने आई है। खबर यह है कि एचसीएल ने चालू वित्तीय वर्ष 2020-21 की पहली तिमाही में मुनाफा अर्जित किया है। जो कंपनी कर्मचारियों के लिए बहुत बड़ी बात है। बीते वित्तीय बस 2019-20 की अंतिम तिमाही (जनवरी – मार्च2020) मैं एचसीएल को रिकॉर्ड 514.27 करोड़ रुपए का घाटा सहना पड़ा था। बीते वित्तीय वर्ष की अंतिम तिमाही में हुए रिकॉर्ड नुकसान एवं कोविड-19 के कारण ऐसी आशंकाएं थी कि चालू वित्तीय वर्ष में भी ऐसी एल को घटा से उभारने के लिए काफी जद्दोजहद करनी पड़ेगी।

हालांकि एचसीएल के सीएमडी अरुण कुमार शुक्ला के कुशल प्रबंधन का ही परिणाम है कि कंपनी बीते वित्तीय वर्ष के दुखद परिणाम को पीछे छोड़ते हुए तेजी से आगे बढ़ने का प्रयास कर रही है। इसका परिणाम चालू वित्तीय वर्ष 2020-21 की पहली तिमाही के आंकड़े से ही जाहिर हो रहे हैं। कंपनी सूत्रों के मुताबिक ने चालू वित्तीय वर्ष 2020-21 की पहली तिमाही (अप्रैल-जून 2020) मे 29.69 करोड़ का समेकित शुद्ध लाभ अर्जित किया है।

बीते वित्तीय वर्ष 2019-20 की समान तिमाही (अप्रैल-जून 2019) के मुकाबले यह मुनाफा 40.11 प्रतिशत अधिक है। बीते वित्तीय वर्ष की समान तिमाही में कंपनी को 21.19 करोड़ों रुपया का शुद्ध लाभ हुआ था। एचसीएल ने चालू वित्तीय वर्ष 2020 की पहली तिमाही में 431.43करोड़ों रुपए की शुद्ध बिक्री की है जो बीते वित्तीय वर्ष की समान तिमाही के मुकाबले 41. 89% ज्यादा है। बीते वित्तीय वर्ष 2019 20 की पहली तिमाही में कंपनी ने कुल 304.07 क करोड़ रुपए की शुद्ध बिक्री की थी।

कंपनी का परिचालन लाभ बीते वित्तीय वर्ष की पहली तिमाही के मुकाबले इस बार कम देखने को मिला है। एचसीएल का प्रतिशत नफा बीते वित्तीय वर्ष की पहली तिमाही में 93. 28% था जो इस बार 7.35 कैसिडी घटकर चालू वित्तीय वर्ष की पहली तिमाही में 86 . 42 करोड़ रुपए दर्ज किया गया है। बहरहाल चालू वित्तीय वर्ष की पहली तिमाही में एचसीएल को हुए 29.69 करोड़ों रुपए के शुद्ध मुनाफे से कर्मचारी के बीच खुशी देखने को मिल रही है।

वित्तीय स्थिति मजबूत होने से मजदूरों को हो सकेगा फायदा 

घाटशिला कपर मजदूर संघ के महामंत्री सच्चिदानंद त्रिपाठी ने कंपनी की पहली तिमाही पर हुए मुनाफे पर खुशी जाहिर करते हुए कहा कि कंपनी की वित्तीय स्थिति मजबूत होने का फायदा कर्मचारियों को मिलना संभव हो सकेगा। उन्होंने उम्मीद जताया कि कंपनी के लाभ मे चलने से आने वाले दिनों में मजदूरों के बकाया एरियर का भुगतान तथा लंबित वेज रिवीजन समझौता हो सकेगा साथ ही बंद पड़ी प्लांट एवं माइंस को भी खोलने में दिक्कत नहीं आएगी।

घाटशिला कमलेश सिंह