Sun. May 19th, 2024

बी सेशा गिरी के 50 वां रक्तदान के साथ अर्थशतकबीर एवं शतकबीर रक्तदाताओं का परिवार बनते जा रहा पीएसएफ परिवार।

 

विश्वजीत मनीमेला, प्रतीक संघर्ष फाउंडेशन एवं जमशेदपुर ब्लड सेंटर के लिए गर्व का क्षण. पीएसएफ एवं जमशेदपुर ब्लड सेंटर के आह्वान पर रक्तवीर योद्धा बी. शेसा. गिरी जी ने अपना छठा सिंगल डोनर प्लेटलेट्स यानी एसडीपी रक्तदान करते हुए 50 बां स्वैच्छिक एवं सुरक्षित रक्तदान के आंकड़े को पुरा कर लिया. और इसी एसडीपी रक्तदान के जरिए प्रतीक संघर्ष फाउंडेशन यानी पीएसएफ ने एसडीपी रक्तदान के क्षेत्र में 808 बां एसडीपी रक्तदान का आंकड़ा हुआ पूर्ण. ऐसे रक्तवीर योद्धाओं को आज दिल से नमन करते हैं. जब भी इन्हें एसडीपी रक्तदान करने हेतु बुलाया गया, सिर्फ और सिर्फ मानव सेवा को ही सर्वोपरि रखते हुए जमशेदपुर ब्लड सेंटर पहुंचकर अपना अनमोल दान के तहत ( एसडीपी रक्तदान- औसतन एक घंटे वेड पर रहकर रक्तदान के जरिए )अस्पताल में इलाजरत किसी जरूरतमंद के लिए निभाया मानव धर्म. आज रक्तदान करने के पूर्व बी. शेसा गिरी जी को पुष्पगुच्छ देकर स्वागत किया गया एवं रक्तदान करने के पश्चात प्रतीक संघर्ष फाउंडेशन, एवं जमशेदपुर ब्लड सेंटर के द्वारा प्रतीक चिन्ह एवं प्रशस्ति पत्र देकर सम्मानित किया गया. इस पावन बेला पर बी. शेसा गिरी जी के पिता सह जीवन के प्रेरणास्रोत पी. आनन्द राव जी, जमशेदपुर ब्लड सेंटर के जीएम संजय चौधरी, अनुभवी एवं वरीय चिकित्सक डॉक्टर लव बहादुर सिंह, अनुभवी तकनीशियन स्वपन राणा, अभिषेक धर, शुभंकर जाना एवं प्रतीक संघर्ष फाउंडेशन यानी पीएसएफ के निर्देशक अरिजीत सरकार.*उपस्थित रहे।

Related Post