Sun. May 19th, 2024

पोटका के सोहदा स्कूल फुटबॉल मैदान में आदिवासी भूमिज- समाज झंडा दिवस आयोजक समिति के द्वारा विददिरि झंडा दिवस सह माघ बुरु सुसुन पर्व धूमधाम से मनाया गया।

पुटका प्रखंड अंतर्गत सोहदा स्कूल फुटबॉल मैदान में 12 फरवरी 2024 को आदिवासी भूमिज समाज विददिरि झंडा दिवस आयोजक समिति के द्वारा विददिरि दिवस सह माघ बुरु सुसुन पर्व बड़े ही धूमधाम से मनाया गया। जहां पारंपरिक स्वशासन के नाया, देऊरी, प्रधान, पांड़ीगिराइ, डाकुआ, एवं जनप्रतिनिधियों ने भाग लिया। इस पर्व में विधि विधान से नाया, देऊरी, के द्वारा पूजा अर्चना के साथ विददिरि झंडा का उत्तलन किया गया। तत्पश्चात विचार गोष्ठी का आयोजन किया गया। जिसका अध्यक्षता सोहदा के ग्राम प्रधान मनोरंजन सरदार एवं संचालन जयपाल सिंह सरदार के द्वारा किया गया। विददिरि झंडा आदिवासी भूमिज समाज का अस्तित्व और पहचान है। इसका गांव-गांव में प्रचार प्रसार करने के लिए बल दिया गया। 12 फरवरी 2012 को भारत के राष्ट्रपति द्वारा इस विददिरि झंडा का स्वीकृति प्रदान किया गया था। विददिरि झंडा आदिवासी भूमिज समाज का प्रतीक चिन्ह स्वरूप मान्यता है। कार्यक्रम में आदिवासी भूमिज समाज अपनी पहचान दो किताबों का लोकार्पण हुआ जिसका लेखक एवं संकलन किया सिद्धेश्वर सरदार। इस शुभ अवसर पर दिशुया मांघ बुरु का भी आयोजन किया गया। जिसमें पश्चिम बंगाल, झारखंड, एवं उड़ीसा राज्यों के विभिन्न क्षेत्र से आए हुए नित्य दलों ने भाग लिया। इस कार्यक्रम में आए हुए 15 से ज्यादा नित्य दलों को समापन समाप्ति के दौरान सम्मानित किया गया। इस मौके पर आदिवासी भूमिज- समाज के सहलाकर सिद्धेश्वर सरदार, हरिश सिंह भूमिज, शत्रुघ्न सरदार, उमा पद सरदार, सुदर्शन भूमिज, लखविंदर सरदार, जयंती सरदार, अनिता कुमारी, सुनीता सरदार, शिशिर पाल भूमिज, विभीषण भूमिज, मनोज कुमार सिंह आदि उपस्थित रहे

Related Post