Sun. May 19th, 2024

सिंहभूम चैम्बर ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्री के द्वारा टैक्स क्लिनिक का आयोजन किया गया। आज की टैक्स क्लिनिक में इनकम टैक्स, जीएसटी एवं अन्य मुद्दों पर चर्चा की गई।

By Rajdhani News Nov 27, 2022

इनकम टैक्स के सेक्षन 36(1) के प्रावधान के तहत यदि कोई व्यवसायी अपने कर्मचारी के पीएफ का भुगतान नियत तिथि के पश्चात् विलंब से करता है तो ऐसी स्थिति में उसके बही खाते से ऐसे खर्चे को विभाग अमान्य करार दे सकता है। व्यवसायियों का ऐसा मत है कि सरकार को इस क्रूर कानून में बदलाव करना चाहिए।

श्री नितेष धूत, उपाध्यक्ष, व्यापार एवं वाणिज्य ने बताया कि चैम्बर में पूर्व में भी यह मांग उठाई थी कि करदाताओं को सरकार द्वारा मुफ्त बीमा मुहैया कराया जाना चाहिए। चैम्बर पुनः सरकार को यह सुझाव देगा कि सभी आयकर दाताओं के पिछले पांच साल के कर भुगतान के बराबर का मेडिकल बीमा केन्द्र सरकार मुफ्त मुहैया कराये। साथ ही साथ चैम्बर राज्य एवं केन्द्र सरकार से यह मांग करेगा कि जीएसटी में निबंधित सभी व्यवसायियों को सरकारें अपने-अपने स्तर से व्यवसायी के टैक्स कलेक्षन के बराबर मुफ्त टर्म बीमा उपलब्ध कराये।

श्री सुरेष सोंथालिया, पूर्व अध्यक्ष ने कहा कि चैम्बर से जुड़े अन्य संस्थाओं के साथ एक बैठक जल्द कराई जायेगी जिसमें सबसे बजट पूर्व प्रतिवेदन के लिये सुझाव लिये जायेंगे। श्री दिलीप गोलछा ने सेक्षन 36(1) के विषय मेें बताया कि यह प्रावधान पीएफ एक्ट के प्रावधानों के अनुसार लाया गया है। अतः हम सरकार से पीएफ एक्ट में संषोधन की भी मांग करेंगे। श्री किषोर गोलेच्छा, कोषाध्यक्ष ने जीएसटी के सेक्षन 16(2) के विषय में जानकारी मांगी।

सचिव, वित्त एवं कराधान पीयूष चौधरी, अधिवक्ता ने बताया कि प्रावधान 16(2) के प्रावधान के अनुसार यदि कोई विक्रेता रिटर्न में अपने विक्रय की विवरणी सही तरीके से नहीं डालता है तो क्रेता को उससे खरीदे गये माल पर टैक्स का लाभ नहीं मिलेगा। किन्तु साथ-साथ उन्होंने यह बताया चूंकि यह प्रावधान कानून में जनवरी, 2022 से पूर्णतः लागू किया गया है अतः इसके पूर्व के अवधियों के लिये यदि क्रेता के पोर्टल पर उसके द्वारा खरीदे गये माल का बिल न भी दिख रहा हो तो भी उसे उसका क्रेडिट मिलना चाहिए। परंतु इनपुट क्रेडिट लेने की अन्य शर्तें हर स्थिति में जरूर पूरी होनी चाहिए। बैठक में यह निर्णय लिया गया कि दिसंबर प्रथम सप्ताह तक राज्य एवं केन्द्र सरकार को एक विस्तृत बजट पूर्व प्रतिवेदन भेजा जायेगा।

आज की बैठक में पूर्व अध्यक्ष सुरेष सोंथालिया, उपाध्यक्ष दिलीप गोलेच्छा, नितेष धूत, कोषाध्यक्ष किषोर गोलछा, सचिव पीयूष चौधरी, कॉ-ऑप्टेड मेंबर अभिषेक अग्रवाल (गोल्डी), अनिल चौधरी तथा अन्य व्यवसायी उपस्थित हुये एवं विभिन्न मुद्दों पर चर्चा की।

Related Post