Mon. Jun 17th, 2024

खेती बचाओ उलगुलान मंच की और से पूर्वी सिंहभूम के उपायुक्त को ग्रामीणों की हस्ताक्षरित एक ज्ञापन सौंपा गया

पोटका प्रखंड के बेगनाडीह गांव में टाटा स्टील लिमिटेड के द्वारा प्रस्तावित एकीकृत जमशेदपुर नगरीय ठोस अपशिष्ट (कचरा)प्रबंधन सुविधा प्लांट के विरोध में खेती बचाओ उलगुलान मंच की ओर से पूर्वी सिंहभूम के उपायुक्त को ग्रामीणों की हस्ताक्षरित एक ज्ञापन सौंपा गया।ज्ञापन में कहा है कि टाटा स्टील लिमिटेड द्वारा बेगनाडीह में खरीदे गए जमीन को बंजर भूमि दर्शा कर कचड़ा प्लांट की स्थापना किया जा रहा है जिसमें पूरे जमशेदपुर के कचड़ा को प्रतिदिन 4 लाख किलोग्राम कचड़ा लाया जाएगा।जबकि यह जमीन कृषि योग्य खेती जमीन है।यह क्षेत्र आदिवासी बाहुल्य एवं प्रदूषण रहित क्षेत्र है कचड़ा प्लांट लगने से यहाँ की वातारण दूषित होगा।कंपनी के द्वारा बताया गया है प्रस्तावित क्षेत्र में पानी छिड़काव, गंध नियंत्रण, गैस रिसाव नियंत्रण,हरित पट्टी एवं धूलकण का शमन एवं जल प्रदूषण को नियंत्रण के उपाय किया जाएगा जिससे पता चलता है कि इस क्षेत्र में पर्यावरण प्रदूषित होगा और कई तरह की बीमारियाँ फैलेगी।कंपनी द्वारा प्रतिदिन 50 हजार लीटर भूगर्भ जल का इस्तेमाल किया जाएगा जिससे आसपास क्षेत्र में भारी पेयजल संकट की स्थिति उत्पन्न होगी।कंपनी द्वारा झारखंड सरकार की प्रतिदिन 300 केवीए बिजली उपयोग किया जाएगा जिससे पहले से बिजली संकट झेल रहे पोटका वासियों की बिजली संकट ओर गंभीर होगी।इस कंपनी में क्षेत्र के कितने लोगों को रोजगार दिया जाएगा,क्षेत्र में शिक्षा एवं स्वास्थ्य सेवा के क्षेत्र में क्या काम किया जाएगा यह स्पष्ट नही किया गया है।उलगुलान मंच ने उपायुक्त से माँग किया है कि आगामी 25 सितंबर को टाटा स्टील की प्रस्तावित नगरीय ठोस अपशिष्ट (कचड़ा) प्रबंधन कंपनी की स्थापना हेतु प्रदूषण नियंत्रण पार्षद द्वारा आयोजित जन सुनवाई को रद्द किया जाय अन्यथा इसके विरोध कानूनी लड़ाई के साथ साथ उग्र आंदोलन भी किया जाएगा।ज्ञापन की प्रतिलिपि झारखंड राज्य प्रदूषण नियंत्रण पार्षद एवं अंचलाधिकारी पोटका को भी सौंपा गया।इस अवसर पर मुख्य रूप से जिला परिषद सदस्य सविता सरदार , गणेश सरदार , मनोज कुमार सरदार ,जयराम हांसदा,सुभाष सरदार,स्वपन मित्रा,माधव हेम्ब्रम,दुलाल मंडल,अपूर्व मंडल,सदानंद साहु,अचिन गोप,कार्तिक सरदार,प्रकाश सरदार,विशाल खंडवाल आदि शामिल थे।

Related Post