Mon. Jun 17th, 2024

माकपा जिला कमिटि की बैठक चंदवा में संपन्न

*माकपा जिला कमिटि की बैठक चंदवा में संपन्न*

चंदवा संवाददाता मुकेश कुमार सिंह की रिपोर्ट

चंदवा। चंदवा माकपा जिला कमिटि की बैठक शुक्रबजार में बैजनाथ ठाकुर की अध्यक्षता में आयोजित किया गया।इसमें केंद्र की भाजपा नेतृत्व वाली नरेंद्र मोदी सरकार की जनविरोधी नीतियों के खिलाफ 20 सितंबर को पार्टी की रांची में आयोजित रैली जनसभा में जिले से भागीदारी को लेकर विचार विमर्श किया गया। बैठक को वर्चुअल के माध्यम से राज्य कमिटियों सदस्य सह जिला प्रभारी संजय पासवान ने लोगों को संबोधित किया।

उन्होंने कहा कि पेट्रोल डीजल का दाम पहले से ही आसमान छू रहा था अब खाने पीने कि वस्तुओं पर 5 प्रतिशत जीएसटी लगा दिया गया है, कॉरपोरेट घरानों को फायदा पहुंचाने के लिए मोदी सरकार ऐसा किया है।

बढ़ती मंहगाई और बेरोज़गारी ने आम जनों को भारी परेशानी में डाल दिया है लेकिन दिल्ली की गद्दी पर बैठी केंद्र सरकार इसे रोकने के बजाय बड़े पूंजीपतियों को मुनाफा पहुंचाने के लिए अनाज समेत दुध दही और बच्चों के लिखने पढ़ने के समानों में जीएसटी लगा दिया है।

नई शिक्षा नीति के नाम पर उच्च शिक्षा की पहुंच से गरीबों को दूर किया जा रहा है।

नीजी शिक्षण संस्थानों का मकड़जाल फैलता जा रहा है।

स्वास्थ्य का बजट आवंटन बढाए जाने की जगह नीजी अस्पतालों का जाल बिछाया जा रहा है।

जिला सचिव सुरेंद्र सिंह ने कहा कि पेट्रोल डीजल पर लगाए गए चार तरह के सेस से सरकारी और नीजी तेल कंपनियां भारी फायदा उठा रही है।

केंद्र सरकार ने 29 श्रम कानून को खत्म कर मजदूरों को गुलाम बनाने के लिए चार लेबर कोड तैयार कर लिया है।

किसानों को उनके फसल का एमएसपी देने से इंकार किया जा रहा है।

खेती के लिए अच्छे बीज खाद्य और किटनाशक उपलब्ध कराने के बजाय सरकार केवल घोषणाओं का भोपूं बजा रही है।

वरिष्ठ नेता अयुब खान ने कहा कि लोकतांत्रिक अधिकारों पर हमले बढ़ रहे हैं और राज सत्ता के गलत कामो का विरोध करने वाले पत्रकारों और सामाजिक कार्यकर्ताओं को देश द्रोही करार देकर जेलों के अंदर बंद किया जा रहा है।जिले में अफसरशाही भ्रष्टाचार चरम पर पहुंच गया है, सुखाड़ फसल राहत योजना में राजस्व कर्मचारी किसानों से लूट रहे हैं कार्रवाई करने के बजाय प्रशासन चुप्पी साध रखी है।

श्रमिक रोजगार के लिए पलायन कर रहे हैं, पेयजल संकट से ग्रामीण जूझ रहे हैं डीजिटल इंडिया में गरीब राशन के लिए सप्ताह भर दुकान का चक्कर लगा रहे हैं। जमीन की खतियान सर्वे में भारी अनियमित्ता बरती गई है । बैठक में 20 सितंबर को रांची रैली में सैंकड़ों कार्यकर्ताओं की भागीदारी कराने इसकी सफलता के लिए जन संम्पर्क अभियान चलाने सहित कई निर्णय लिया गया।

बैठक में जिला सचिव सुरेंद्र सिंह, अयुब खान, रसीद मियां, पचु गंझु, शोभन उरांव,बलराम उरांव, सुधन गंझु, साजीद खान, द्वारीका ठाकुर, प्रेम उरांव, नरेश उरांव, सनीका मुंडा, सनीफ मियां, बैजनाथ ठाकुर, जितेन्द्र उरांव व अन्य शामिल थे।

Related Post