Fri. Jun 21st, 2024

कतरी नदी का जल स्तर बढ़ने से आसपास के इलाकों में बढ़ा खतरा- धनबाद कतरास

*कतरी नदी का जल स्तर बढ़ने से आसपास के इलाकों में बढ़ा खतरा-*
धनबाद
कतरास

*केजरीवाल आउटसोर्सिंग के द्वारा बनाया गया फुल पानी में बहा आउटसोर्सिंग का पूरा काम था*


चक्रवात तूफान के कारण पिछले 30 घंटो से हो रही लगातार बारिश व तेज हवाओं के कारण कतरास कोयलांचल का जन जीवन अस्त व्यस्त हो गया। कतरी नदी वर्षों बाद फिर से रौद्र रूप धारण कर चुकी है। पिछले 25 वर्षो के बाद दूसरी बार सितंबर माह में इतनी बारिश हो रही है। इस बारिश नें एक बार फिर से 26 सितंबर 1995 की रात हुई गजलीटांड खान हादसे की याद ताजा कर दी है।
इस आफत भरी बारिश से लोगो का हाल बेहाल हो गया है। कतरी नदी में लागातार पानी के बढ़ जाने से नदी के निचले इलाकों में पानी घरों में घुस रहा है। कतरास के गली-मोहल्ले व सड़को पर लबालब पानी भर गया है। पूरा शहर ब्लैक आउट है। तेज हवाओं के कारण रेलवे मैदान में सब्जी दुकानदारों के बाँस बल्ली व प्लास्टिक सब टूटकर बिखेर पड़े है। बारिश के कारण सब्जी भी नही मंगाई गई। जिस कारण होलसेल सब्जी की दुकानें बंद रही।
राजगंज रोड स्थित सब्जी मंडी की सड़कों पर घुटनों के ऊपर तक पानी भरा है। नाली का गंदा पानी लोगो के घरों में रहा है।
बीसीसीएल के कई कोलियरी में उत्पादन ठप पड़ा है। बारिश के कारण कतरास थाना की स्थिति भी काफी खराब है। कतरास थाना परिसर बैरक गार्ड रूम में घुटनों तक पानी भरा हुआ है। थाना की इमारत भी काफी कमजोर है। कभी भी आप्रियकर घटना घट सजती है।
थाना का सिरिस्ता, बैरक, हवालात व पुलिस अधिकारियों का आवास में पानी का रिसाव होने से पुलिस पदाधिकारियों का भी बुरा हाल है।

Related Post