Fri. Jun 21st, 2024

गारू मायापुर में शराब पिलाने के बाद पीट पीटकर युवक की हत्या पुलिस ने चचेरे भाई सहित दो को लिया हिरासत में, मामले में अनुसंधान जारी

*मायापुर में शराब पिलाने के बाद पीट पीटकर युवक की हत्या*

 

 

 

*पुलिस ने चचेरे भाई सहित दो को लिया हिरासत में, मामले में अनुसंधान जारी*

 

 

गारू : संवाददाता उमेश यादव की रिपोर्ट

 

लातेहार ज़िले के बारेसाँढ़ थाना क्षेत्र के मायापुर में बीती रात कुंदन मरकुस कुजूर की पीट कर हत्या कर दी गई। परिजनों ने चचेरे भाई समेत दो लोगों पर हत्या का आरोप लगाया है।

सोमवार को सुबह सुचना मिलते ही बारेसांढ़ थाना प्रभारी जावेद कासमी दल-बल के साथ घटना स्थल पहुंचे और शव को कब्जे में ले पोस्टमॉर्टम के लिए लातेहार भेज दिया।

मृतक की पत्नी प्रियंका मिंज ने बताया कि चचेरे भाई निरोज कुजूर और गांव के ही सिलास पन्ना नें एकसाथ मिलकर मेरी पति की हत्या कर दिया।मृतक के तीन पुत्र व दो पुत्रियां हैं।

ग्रामीणों द्वारा प्राप्त जानकारी के अनुसार मृतक सिलास पन्ना के घर में महुआ शराब पी रहा था। इसी दौरान किसी बात को लेकर विवाद शुरू हो गया और मारपीट शुरू हो गई। कुंदन किसी प्रकार से भागकर अपने घर आ गया। उसके बाद रात्रि के करीब 11:00 बजे कुंदन और उसकी पत्नी नें मारपीट की सुचना गांव के प्रधान अनुज तिर्की को दिए। प्रधान अनुज तिर्की नें सुबह बात करेंगे बोलकर तत्काल टाल दिया। उसके बाद कुंदन और उसकी पत्नी अपने घर आ गये। मृतक की पत्नी बताती है की उन्हें आभास था की वे लोग फिर आ जायेंगे, इसलिए दरवाजा को अंदर से लॉक कर दी थी। करीब 11:30 बजे निरोज कुजूर,निरोज की माँ मोनिका मिंज, निरोज पत्नी सुधा खाखा और सिलास पन्ना चारो कुंदन के घर गये तथा उन्हें बाहर निकलने को कहा। जब वह बाहर नहीं निकला तब दरवाजा पर हमला करना शुरू कर दिये। महिलाओं की भी आवाज सुनकर कुंदन की पत्नी दरवाजा खोल दी। उसके बाद हमलावरों ने घर में घुसकर फिर से मारपीट शुरू कर दिये। पति को अचेत देखकर पत्नी नें हल्दी गर्म करके लगाना शुरू कर दी, काफी रात बीत जाने के कारण उसकी पलक झपक गयी। अचानक नींद खुलने के बाद देखती है की कुंदन की मृत्यु हो चुकी है।

पुलिस ने इस मामले में दो लोगों को हिरासत में लेकर पूछताछ कर रही है।

*मामले में पुलिस बल सक्रिय, महुआ शराब बनाने वालों को दिये सख्त हिदायत, ग्रामीणों नें बर्तन भी तोड़े*

 

महुआ शराब के कारण गयी जान को शर्मनाक बताते हुए थाना प्रभारी जावेद काशमी टोले के लोगों से बातचीत कर रहे थे। तभी गांव के युवाओं नें प्रशासन से मिलकर घर घर तलाशी शुरू कर दिये। देखते देखते ही टोले के हर दूसरे घर से शराब निकलने लगा। हालांकि ग्रामीणों नें धानरोपनी का बहाना भी बनाये, लेकिन शराब को फेंककर दुबारा शुरू करने पर कानूनी करवाई की बात भी कहे। शराब फेंकने की बात क्षेत्र में आग की तरह फैल गयी। कई लोगों नें प्रशंसा करते हुए बताये की थाना प्रभारी पहले भी शराब बनाने वालों और जुवारियों को हिदायत दे चुके हैं। वैसे में हमलोगो का भी कर्तव्य है की प्रशासन की मदद करें।

Related Post