कांग्रेस जनहित की खातिर इस महामारी के वक़्त अपने नकारात्मक राजनीति से बाज आये,

0
253

भाजपा सरायकेला-खरसावां के जिलाध्यक्ष श्री बिजय महतो ने खरसावां डाक बंगला में प्रदेश भाजपा के निर्देशानुसार एक प्रेसवार्ता का आयोजन किया ।

प्रेसवार्ता के माध्यम से इस वैश्विक महामारी के वक़्त में कांग्रेस पार्टी के द्वारा किये जा रहे जनविरोधी और गैरजिम्मेदाराना ब्यवहार पर भाजपा राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री जे.पी नड्डा के द्वारा कांग्रेस पार्टी की अध्यक्षा श्रीमती सोनिया गांधी को लिखे पत्र के आलोक में श्री बिजय महतो ने बताया कि बहुत मजबूर होकर हमारे राष्ट्रीय अध्यक्ष ने श्रीमती सोनियाँ गांधी को शिकायती चिट्ठी लिखी है ।

इस मुश्किल दौर में भी कांग्रेस अपनी ओछी राजनीति से बाज नहीं आ रही है, कांग्रेस के नेता सिर्फ ट्विटर पर ही अपनी सक्रियता दिखा रहे है, वह भी नकारात्मक।

जहाँ केंद्र की मोदी सरकार दिन रात पुरी शक्ति लगकर इस महामारी से लड़ रही है,

दुनिया का सबसे बड़ा और सबसे तेज बैक्सीनेसन कार्यक्रम देश मे चल रहा है, वहीं कांग्रेस पार्टी और उसके सहयोगी दल केंद्र की सरकार को अस्थिर करने के प्रयास में लगें हुए हैं ।

कोरोना महामारी के पहले लहर के वक़्त जब केंद्र की सरकार ने कोरोना के फैलाव को रोकने की खातिर लॉकडाउन लगाया था तब इन्ही लोगो ने बिरोध किया था, इन्होंने प्रवासी मजदूरों के बीच अफवाह फैलाकर उन्हें पलायन को मजबूर किया था, जबकि यह जानते थे मजदूरों के द्वारा कोरोना देश के सभी हिस्सों में फैल सकता है, आज यही लोग लॉकडाउन न लागू करने पर केंद्र सरकार की आलोचना कर रहे है, जबकि मोदी जी ने इस बार सारे जरूरी अधिकार राज्यो को दे रखें है ।

देश के बैज्ञानिकों ने जब अपना देशी बैक्सीन बनाया तो यही लोग बैक्सीन को लेकर भ्रंतिया फैलाने लगे, उसे बेकार बताया, छत्तीसगढ़ सरकार ने तो उसे अपने यहाँ लगवाने से मना तक कर दिया,कांग्रेस के कई बड़े छोटे नेताओं ने बैक्सीन को लेकर गलत बयानी की । परिणामस्वरूप कुछ लोगो मे भ्रम फैला, बैक्सीनेसन के शुरुआती दिनों में लाखों खुराक बेकार हो गये।

विधानसभा चुनाव के वक़्त राहुल और प्रियंका गांधी ने बंगाल को छोड़ कर बाकी जगहों पर खूब चुनाव प्रचार किया,रैलियां की,फिर आरोप लगाना शुरू कर दिया कि प्रधानमंत्री जी के रैलियों से कोरोना फैला,जबकि ममता बनर्जी के रैलियों पर यह शातिराने तरीके से खामोश रहें ।

कोरोना की दूसरी लहर कांग्रेस गठबंधन वाली महाराष्ट्र से फैली, आज भी जिन राज्यो में कांग्रेस की सरकार है वहां के हालात ज्यादा खराब है।

कांग्रेसी राज्यो ने साजिश के तहत मेडिकल संसाधनों का अपने यहाँ कृत्रिम अभाव दर्शाया,जो केरल राज्य पहले अपने यहाँ सरप्लस ऑक्सीजन का ढिंढोरा पिटता था, दस दिनों के बाद ही वह केंद्र से ऑक्सीजन मांगने लगा,पंजाब के नहरों में रेमडीसीवीर के इंजेक्शन बहते हुए देखें गये,कांग्रेसी नेता नवनीत कालरा के रेस्टोरेंट से हजारों ऑक्सीजन केन्स्ट्रेटर बरामद हुए, कांग्रेसी सरकारों ने कभी दाम के बहाने, तो कभो बैक्सीनेसन लगवाने वालो की उम्र पर, तो कभी उपलब्धता पर, रोज सवाल खड़े किये । लेकिन क्या मजाल जो किसी कांग्रेसी ने कभी चीन पर कोई आरोप लगाया हो ?

यह ऐसे लोग है जिनके धमकियों से आजिज आकर कोविशिल्ड के निर्माता अदार पूनावाला ने देश छोड़ कर इंग्लैंड में शरण ली हुई है ।

प्रधानमंत्री जी देश के अभिभावक होने के नाते हमारे झारखंड के मुख्यमंत्री जी को फोन करते है तो उस पर भी नकारात्मक राजनीति से यह लोग बाज़ नही आते है,अपने ओछेपन को दर्शाते हुए उसे मोदी जी के मन की बात कहते है,आज पूरा झारखंड कोरोना से कराह रहा है,राज्य में सरप्लस ऑक्सीजन है फिर भी रिम्स में कई लोगो की ऑक्सीजन की कमी से मौत हो जाती है,आज राज्य के गाँव तक यह महामारी फैल चुकी है।

श्री बिजय महतो ने कहा ऐसा प्रतीत होता है कि कांग्रेस वाले इस महामारी को अवसर समझ बैठे है, उन्हें लगता है कि केंद्र सरकार के बारे में भ्रम फैलाकर वह सरकार को अस्थिर कर सकते है,भाजपा भी बिपक्ष में रही है लेकिन उसने कभी देशहित से समझौता नही किया, इनकी घिनौनी मानसिकता को देश की जनता समझ रही है,देश मिलकर इस महामारी को जरूर हरायेगा, लेकिन आनेवाला इतिहास कांग्रेसियों के इस कुकृत्य को भी याद रखेगा ।

इस प्रेसवार्ता में जिलाध्यक्ष श्री बिजय महतो के अलावा,सरायकेला नगर परिषद के उपाध्यक्ष श्री मनोज चौधरी, निवर्तमान जिलाध्यक्ष श्री उदय सिंहदेव,एस.टी मोर्चा के प्रदेश कोषाध्यक्ष सह सरायकेला विधानसभा से भाजपा प्रत्याशी रहे श्री गणेश महाली की भी उपस्तिथि रही ।