केंद्र सरकार ने किया है मुफ्त राशन देने का ऐलान, अगर आपका डीलर करे इंकार, तो यहां करें तुरंत शिकायत

0
308

देश में गहराए कोरोना संकट को देखते हुए केंद्र सरकार ने गरीबों को मई और जून दो महीनों में मुफ्त राशन उपलब्ध कराने का ऐलान किया है. प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना (Garib Kalyan Ann Yojana) के तहत गरीबों को 5 किलो खाद्यान्न मुफ्त में उपलब्ध कराया जाएगा. माना जा रहा है कि सरकार के इस फैसले से देश के 80 करोड़ लोगों को लाभ मिलेगा. केंद्र सरकार ने पिछले साल भी देश के गरीबों को मुफ्त राशन उपलब्ध कराया था. अगर आपके राशन कार्ड है और राशन डीलर आपके कोटे का आनाज देने से मना कर रहे हैं तो आप आप टोल-फ्री नंबर पर शिकायत कर सकते हैं.

नेशनल फूड सिक्योरिटी पोर्टल (NFSA) पर हर राज्यों के लिए टोल फ्री नंबर मौजूद होते हैं.इस पर कॉल कर आप अपनी शिकायत दर्ज करा सकते हैं. साथ ही अगर आप चाहें तो NFSA की वेबसाइट https://nfsa.gov.in पर जाकर मेल लिखकर भी शिकायत दर्ज करा सकते हैं. मालूम हो कि हर राज्य में राशन कार्ड बनवाने के तरीके अलग-अलग होते हैं.

टोल फ्री नंबर पर कॉल कर दर्ज करें शिकायत

सरकार ने राशन वितरण प्राणाली से गड़बड़ियों को दूर करने और सभी तक राशन पहुंचाने के लिए शिकायत दर्ज करने की व्यवस्था शुरू की है. यदि कोई राशन कार्ड धारक अपना भोजन कोटा प्राप्त नहीं कर रहा है तो वह इस टोल फ्री नंबर पर कॉल कर अपनी शिकायत दर्ज करा सकता है.

किसे और कितना मिलेगा अनाज

प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना के तहत राशनकार्ड धारकों को लाभ मिलेगा. अगर मान लीजिए कि आपके राशन कार्ड में चार लोगों के नाम दर्ज हैं. तो एक व्यक्ति को पांच किलो के हिसाब से कुल 20 किलो अनाज आपको मिलेगा. यह अनाज हर महीने मिलने वाले राशन से अलग होगा. यानी अगर आपको हर महीने राशन कार्ड पर पांच किलो अनाज मिलता है तो आपको मई और जून महीने में पांच किलो अतिरिक्त अनाज मिलेगा.

कहां मिलेगा मुफ्त राशन

प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना के तहत मई और जून में मुफ्त दिया जाने वाला अनाज उसी राशन की दुकान पर मिलेगा, जहां से राशन कार्ड पर मिलता है. पिछले साल कोरोना महामारी के कारण लगे लॉकडाउन के दौरान इस योजना की शुरुआत प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने की थी.

राज्यवार शिकायत हेल्पलाइन नंबर

  • बिहार- 1800-3456-194
  • छ्त्तीसगढ़- 1800-233-3663
  • गोवा- 1800-233-0022
  • गुजरात- 1800-233-5500
  • हरियाणा – 1800-180-2087
  • हिमाचल प्रदेश – 1800-180-8026
  • झारखंड – 1800-345-6598, 1800-212-5512
  • कर्नाटक- 1800-425-9339
  • केरल- 1800-425-1550
  • मध्यप्रदेश- 181
  • महाराष्ट्र- 1800-22-4950
  • मणिपुर- 1800-345-3821
  • मेघालय- 1800-345-3670
  • मिजोरम- 1860-222-222-789, 1800-345-3891
  • नागालैंड- 1800-345-3704, 1800-345-3705
  • ओड़िशा – 1800-345-6724 / 6760
  • पंजाब – 1800-3006-1313
  • राजस्थान – 1800-180-6127
  • सिक्किम – 1800-345-3236
  • तमिलनाडू – 1800-425-5901
  • तेलंगाना – 1800-4250-0333
  • त्रिपुरा- 1800-345-3665
  • उत्तरप्रदेश- 1800-180-0150
  • उत्तराखंड – 1800-180-2000, 1800-180-4188
  • पश्चिम बंगाल – 1800-345-5505
  • दिल्ली – 1800-110-841
  • जम्मू – 1800-180-7106
  • कश्मीर – 1800-180-7011
  • अण्डमान और निकोबार द्वीपसमूह – 1800-343-3197
  • चण्डीगढ़ – 1800-180-2068
  • दादरा और नगर हवेली और दमन और दीव – 1800-233-4004
  • लक्षद्वीप – 1800-425-3186
  • पुदुच्चेरी – 1800-425-1082
  • आंध्रप्रदेश – 1800-425-2977
  • अरुणाचल प्रदेश – 03602244290
  • असम – 1800-345-3611