डिप्रेशन का शिकार हुई युवती लगाया दुपट्टे से फांसी

0
618

महुआडांड़ : शिक्षक पात्रता की तैयारी में जुटी एक युवती जो प्राइवेट विद्यालय में शिक्षिका थी। डिप्रेशन का शिकार हो फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली। पुलिस ने युवती का शव को पोस्टमार्टम कराकर परिजनों के सुपुर्द कर दिया है। मृतक थाना महुआडांड़ क्षेत्र ग्राम बांसकरचा (लखेपूर) की रहनें वाली थी।

मृतिका की मां कहती है

शनिवार विभूति कुजुर (28) पिता ब्लासियस कुजूर ने सुबह 9 बजे घर पर अपने दुपट्टे से फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली। मृतिका की मां अगधा टोप्पो ने रविवार को थाना में अपना बयांन दर्ज करया कि मेरे बेटी खुद आत्महत्या की हैं। वही बताया कि विभूति कुजुर अपने भविष्य को लेकर कुछ दिनों से चिंतित थी, घर में खुद को अकेला देख आत्महत्या कर ली। यह भी कहा जब से लॉकडाउन हुआ डिप्रेशन में रहती थी। वह हजारीबाग में एक प्राइवेट विद्यालय में पढ़ाती थी साथ ही सरकारी टीचर बहाली की तैयारी भी कर रही थी। पिछले छ:-सात महीनों से यह घर पर ही थी। कुछ दिनों से परेशान दिखती थी, हम बात भी करते थे तो वह गुमसुम रहा करतीं थी। बस अपने लाइफ को लेकर चिंतित रहती थी। सही से खाना पानी भी नहीं खाती थी। शनिवार मैं और मेरे पति साथ खलिहान में धान की दौनी करने गयें हुए थें। जब हम खाना खाने लगभग 9:00 बजे अपने घर वापसआए दरवाजा खोला तो देखा की बेटी दुपट्टे से लटकती मिलीं। हम घबराकर चिल्लाने लगे चीख़ सुन आस पास के लोग जुट गयें। वही सूचना पाकर मौके पर पहुंची पुलिस ने शव कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम करा शव परिवार को सौंप दिया। जिसका दफ़न रविवार को किया गया।

रिपोर्ट राजधानी न्यूज से बबलू खान