Mon. Apr 22nd, 2024

निजीकरण के खिलाफ संघर्ष तेज होगा , 26 नवंबर को हड़ताल को सफल बनाने का आह्वान

निजीकरण के खिलाफ संघर्ष तेज होगा : महेश

झारखण्ड राज्य राजपत्रित कर्मचारी महासंघ के बैनर तले विभिन्न संघों की बैठक महासंघ के पूर्व राज्य अध्यक्ष सह एक्टू के राष्ट्रीय पार्षद महेश कुमार सिंह की अध्यक्षता में ब्लॉक परिसर स्थित सहकारिता भवन में हुई।

बैठक की अध्यक्षता करते हुए महासंघ के श्री सिंह ने कहा कि रिकॉर्ड तोड़ बेरोजगारी, श्रम कोड कानून के खिलाफ, देश के संसाधनों को बेचने के खिलाफ संघर्ष करना होगा। साथ ही आगामी 26 नवंबर 2020 को राष्ट्रव्यापी हड़ताल को सफल बनाने हेतु विभिन्न शिक्षक कर्मचारी संघों के साथ रणनीति बनाई गई। बैठक में समान काम समान वेतन, पुरानी पेंशन योजना लागू करने, न्यूनतम मजदूरी इक्कीस हजार एवं दस हजार मासिक पेंशन देने, सहिया सहित सभी कर्मी को नियमित करने, 30 वर्ष या 50 वर्ष से ऊपर आयु के सरकारी कर्मियों को जबरन सेवानिवृत्ति आदेश रद्द करने समेत अन्य मांगों की पूर्ति हेतु 26 नवंबर को आहूत हड़ताल में शामिल होने पर सहमति बनी।

बैठक में वन विभाग संघ की सुदेना लाल, चिकित्सा कर्मचारी संघ के जफर आलम, शिक्षक संघ के मुमताज अहमद, झारखंड प्रदेश प्राथमिक शिक्षक संघ के प्रदेश अध्यक्ष शैलेंद्र कुमार सुमन, भवन निर्माण विभाग के सुधीर उरांव, उद्योग विभाग के अनिल उरांव, सहिया बाल मुन्नी देवी, बबीता देवी, माधुरी देवी, नुसरत जहां संगीता देवी, सरस्वती उरांव, सीता देवी आदि मौजूद थे।

रिपोर्ट राजधानी न्यूज से बबलू खान

Related Post