चांडिल क्षेत्र में प्रतिबंधित तम्बाकू उत्पादों की बिक्री धड़ल्ले से ,जिम्मेदार कौन ?

0
436

चांडिल

चांडिल -चांडिल अनुमंडल क्षेत्र के रगुनाथपुर,चौका, तिरूल्डिह, टिकर, मिलन चौक सहित चांडिल बाजार में प्रतिबंधित तम्बाकू उत्पाद धड़ल्ले से खुलेआम बिक रहे है. प्रशासन की अनदेखी से कोरोनावायरस संक्रमण रोगी रोजाना मिल रहे है.राज्य में कोरोनावायरस संक्रमण के बढ़ते प्रभाव को देखते हुए ,सरकार ने तम्बाकू उत्पतदो जैसे सिगरेट,बीड़ी, पान मसाला ,हुक्का,खैनी,जर्दा,ओर इलेक्ट्रानिक सिगरेट सहित तमाम तरह के तम्बाकू के बिक्री व भंडारण पर झरखंड सरकार ने पूर्ण प्रतिबंध 25 जुलाई,2020 से एक वर्ष तक के लिए लगा दिया .क्योंकि पान मसाला,गुटखा, जर्दा,खैनी ,खाकर ,यहां वहां धुकने से संक्रमण फैलता है.सरकार ने जनहित में तम्बाकू उत्पादों पर प्रतिबंध तो लगा दिया ,लेकिन जिम्मेदार पदाधिकारी सरकार के आदेश को अमल करना जरूरी नहीं समझा .जिसके कारण चांडिल अनुमंडल के रघुनाथपुर,चौका,चांडिल बाजार , टिरुल्डिह, टिकर, मिलन चौक, ईचागढ़, आदि क्षेत्रों सहित कोरोनावायरस संक्रमण की रफ्तार तेजी से ग्रामीण क्षेत्रों में फैल रही है .चांडिल अनुमंडल की सीमाएं तिरुल्डिह व नीमडीह थाना की सीमाएं पश्चिम बंगाल से जुड़ी होने के कारण गल्ला व्यवसाई खाद्य सामग्री आड़ में गोरख धंधा चला रहे है.ये धंधा यही तक सीमित नहीं है इसके अलावा जमशेदपुर,व सरायकेला की सीमाएं उड़ीसा से लगी होने के कारण कॉस्मेटिक व खड्यान सामग्री के कार्टूनों व बोरे में तम्बाकू उत्पाद गल्ला व्यवसाई के गोदामों में सीधे पहुंच रहे है. सूत्रों की माने तो लाखों रुपए के गुटका व पान मशाला सहित तम्बाकू उत्पादों का कारोबार हो रहा है. इन व्यवसायियों के हौसला इतना बुलंद है कि खुलेआम गुटका,सिगरेट, पान मसाला,खैनी डबल कीमत पर बेचकर मालामाल हो रहे. शूत्रो की माने तो सीमावर्ती राज्यो में रोजाना जाने आने वाले खाद्य सामग्री सामग्री वाहनों की संबंधित थाना क्षेत्र में चलने के लिए इंट्री फिश देनी पड़ती है इसी कारण व्यवसायियों को विशेष सुविधा बिना किसी रोक टोक के वाहन चलते है. प्रतिबंधित तम्बाकू उत्पादों के कारोबारियों के तार अन्य पश्चिम बंगाल व उड़ीसा से जुड़े हुए है . कोरोनावायरस संक्रमण का फैलाव गांवों तक पहुंच गया .क्या सरकार के जिम्मेदार पदाधिकारी लापरवाही के कारण ये लोगो की जान आफत में है .

चांडिल से संजय शर्मा  7870123959