Mon. Jun 24th, 2024

चांडिल में ग्रामीणों ने भू-माफिया के खिलाफ खोला मोर्चा जाने

सरायकेला-खरसावां के भू-माफियाओं के खिलाफ उठी आग की लपटें अब चांडिल के नारगाडीह तक पहुंच गई है। चांडिल में पिछले कई माह से रैयतों ने भू-माफियाओं के खिलाफ मोर्चा खोल रखा है। कपाली, डोबो, कांडरबेड़ा एवं रुगड़ी के बाद अब यह विरोध की आग नारगाडीह तक पहुंच गई है। भू-माफियाओं के दबंगई तथा रैयतों के जमीन पर जबरन अवैध कब्जा करने के खिलाफ सोमवार को नारगाडीह में ग्रामप्रधान नंदबाबू गोप की अध्यक्षता में ग्रामसभा आयोजित की गई। ग्रामसभा में ग्रामीणों ने भू-माफियाओं के खिलाफ मोर्चा खोल दिया। रैयतों ने कहा कि भूदान में उनलोगों को जमीन दी गई थी तथा उस जमीन का पट्टा भी दिया गया है। परंतु उनके जमीन पर भू-माफियाओं की गिद्ध दृष्टि लगी हुई है।

भू-माफिया रैयतों को जमीन खाली करने का धमकी दे रहा है। इससे रैयत डरे व सहमे हुए है। ग्रामसभा में यह निर्णय लिया गया कि प्रशासन,भू-माफियाओं पर नकेल नहीं कसता है तो ग्रामसभा इस संबंध में मुख्यमंत्री से मिलेगा। इस मौके पर मुखिया ज्योतिलाल माहली, उप मुखिया गोपाल चंद्र टुडू,रामेश्वर लायेक,महेश्वर हेम्ब्रम,दिलीप मुर्मू आदि उपस्थित थे।भू-माफिया ग्रामीणों को बेदखल करने की रच रहे है साजिस : मुखिया- मुखिया ज्योति माहली ने कहा कि वर्ष 1970-72 में भूदान के तहत सरकारी जमीन पर ग्रामीणों को पट्टा दिया गया था। दुर्भाग्यपूर्ण वह जमीन पंजी टू में दर्ज नहीं है। भू-माफिया एवं पूंजीपति गलत तरीके से भोले-भाले ग्रामीणों की जमीन हड़पने का काम कर रहे हैं।

Related Post