अयोध्या में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रखी भव्य राम मंदिर की नींव, जानें भूमि पूजन के सारे अपडेट

0
465
अयोध्या में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रखी भव्य राम मंदिर की नींव, जानें भूमि पूजन के सारे अपडेट
फोटो : अयोध्या में राम मंदिर निर्माण के लिए भूमि पूजन करते प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी।

आयोध्या:प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भूमि पूजन के लिए 29 साल बाद अयोध्या आए। प्रधानमंत्री मोदी सुनहरे कुर्ते और सफेद धोती में अयोध्या पहुंचे, जहां उन्होंने शुभ मुहूर्त में भूमि पूजन किया। इस दौरान यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, राज्यपाल आनंदीबेन पटेल, आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत समेत कई दिग्गज नेता मौजूद दिखे।

राम जन्मभूमि पूजन के दौरान क्या क्या हुआ

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अयोध्या में राम मंदिर की आधारशीला रखी। इस तरह से 492 साल का इंतजार खत्म हो गया और अयोध्या में भव्य राम मंदिर की नींव रख दी गई।शुभ मुहूर्त और समय के मुताबिक ही पीएम मोदी ने नींव की ईंट रखी। पीएम मोदी 11 बजकर 30 मिनट पर अयोध्या पहुंचे। अयोध्या में वह दो से ढाई घंटे का ही समय दिया ।इसके बाद 3:00 बजे उनका हेलीकॉप्टर लखनऊ उतरेगा। इसके बाद वापस अपने विशेष विमान से पीएम मोदी 3:15 के करीब दिल्ली के लिए रवाना हो जाएंगे।प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अयोध्या में रामलाल के दर्शन किए, जिसके बाद भूमि पूजन शुरू हुआ। इससे पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने हनुमानगढ़ी में हनुमंत लला का दर्शन किया और आरती भी उतारी।दर्शन करने के बाद अब राम जन्मभूमि परिसर पहुंचे। हनुमानगढ़ी में गद्दी नशीन महंत रमेश दास ने प्रधानमंत्री को मुकुट व पगड़ी पहनाई केसरिया रामनामी साफा भी ओढ़ाया। इसके बाद राम मंदिर के शिलापट्ट का अनावरण प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने किया ।राम मंदिर भूमि पूजन का मुहूर्त 32 सेंकेड का था । जो मध्याहन 12 बजकर 44 मिनट आठ सेकेंड से लेकर 12 बजकर 44 मिनट 40 सेकेंड के बीच तक चला। पंडितों की मानें तो षोडश वरदानुसार 15 वरद में ग्रह स्थितियों का संचरण शुभ और अनुकूलता प्रदान करने वाला है।भूमि-पूजन के निर्धारित मुहूर्त पर दोपहर साढ़े 11 से साढ़े 12 बजे के मध्य हरि संकीर्तन का आयोजन किया जा रहा है। मंत्रोच्चार के बीच पूजा प्रारंभ हुआ। पूरे कार्यक्रम में काशी, अयोध्या, दिल्ली, प्रयाग के विद्वानों को बुलाया गया है। अलग-अलग पूजा के अलग-अलग एक्सपर्ट भी आते हुए थे । पूरी टीम 21 ब्राह्मणों की थी जो अलग अलग तरीकों से पूजा करा रही थी। भूमि पूजन समारोह में भाग लेने वाले संतों को चांदी के सिक्के दिए गए। जो श्री राम जन्मभूमि तीर्थक्षेत्र ट्रस्ट को कामिकोच्चि के शंकराचार्य जयेंद्र सरस्वती द्वारा भूमिपूजन के लिए भेजे गए थे ‌ । इस समारोह के लिए करीब शुद्ध घी के सवा लाख लड्डू भी तैयार किए गए थे।