Mon. Jun 17th, 2024

दुमका लोकसभा क्षेत्र से गुरु जी ने स्वयं अपने आंदोलनकारी साथी नलिन सोरेन को प्रत्याशी चुना है – बसंत सोरेन

By Juhi Pradhan May 23, 2024

बोले – जो सम्मान एवं साथ आपने आज तक गुरु जी को दिया है वही सम्मान और साथ नलिन सोरेन को भी दें

रामगढ़ प्रखंड के जमुना मैदान में गुरुवार को झारखंड मुक्ति मोर्चा के बूथ समिति सदस्यों का एकदिवसीय सम्मेलन आयोजित किया गया| सम्मेलन की अध्यक्षता प्रखंड अध्यक्ष शिवलाल मरांडी ने जबकि मंच संचालन प्रखंड सचिव नंदलाल राउत ने किया।सम्मेलन में उपस्थित कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए राज्य के पथ निर्माण मंत्री बसंत सोरेन ने कहा कि वर्तमान समय में चल रहा लोकसभा का चुनाव देश की दशा एवं दिशा बदलने वाला चुनाव है। उन्होंने कहा कि नलिन सोरेन जी का लंबा राजनीतिक अनुभव रहा है।वे शुरू से झारखंड में मुक्ति मोर्चा से जुड़े रहे हैं एवं राज्य निर्माण आंदोलन के सक्रिय आंदोलनकारी रहे हैं।गुरु जी ने बहुत सोच विचार कर दुमका लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र के लिए उन्हें प्रत्याशी चुना है। गुरु जी के नेतृत्व में चले राज्य निर्माण के आंदोलन में वे शुरू से शामिल रहे। इस आंदोलन की वजह से हमारी अलग पहचान कायम हुई। आपने जिस तरह से गुरु जी को अपना साथ एवं मान-सम्मान दिया है, वैसे ही नलिन सोरेन जी का साथ देकर उन्हें विजयी बना कर लोकसभा में भेजें।वे यहां की समस्याओं को लोकसभा में अवश्य उठाएंगे। अपनी चुनावी सभा में भाजपा प्रत्याशी सीता सोरेन के विरोध में बोलने से परहेज रखने वाले बसंत सोरेन ने आज सीता सोरेन के विरोध में खुलकर बातें रखी। उन्होंने कहा कि जो व्यक्ति जामा और रामगढ़ का नहीं हुआ वह दुमका का क्या होगा।उन्होंने कहा कि 15 वर्ष तक उन्हें विधायक बनाए रखने वाले कार्यकर्ताओं एवं जनता के परिवार को छोड़कर वे भाजपा परिवार में शामिल हो गई।उन्हें सोरेन परिवार या झामुनो परिवार 15 वर्ष में भी समझ में नहीं आया।लेकिन मोदी परिवार समझ में आ गया।सीता सोरेन पर अपने क्षेत्र की जनता के साथ छल करने का आरोप लगाते हुए उन्होंने कहा कि सभी कार्यकर्ता झारखंड मुक्ति मोर्चा प्रत्याशी नलिन सोरेन को विजई बनाने के लिए निष्ठा पूर्वक लग जाएं।वहीं सम्मेलन को संबोधित करते हुए झामुमो प्रत्याशी नलिन सोरेन ने कहा कि लंबे संघर्ष के बाद झारखंड राज्य का गठन हुआ। लेकिन पहले प्रधानमंत्री के रूप में बाबूलाल मरांडी को चुना गया जो कभी भी अलग राज्य के आंदोलन में शामिल नहीं थे।जिसके कारण राज्य के मूल वासियों एवं आदिवासियों के हित में नीतियां तैयार नहीं हुई।जब हेमंत सोरेन की सरकार ने राज्य के हित में नीतियां एवं कार्यक्रम बनाना शुरू किया तो उन्हें फर्जी मामले में फंसा कर जेल भेज दिया गया।जेल का जवाब वोट से देकर ही भाजपा की षड्यंत्रकारी नीतियों को रोका जा सकता है। गुरुजी के कहने पर मैं आप सबके सामने प्रत्याशी के रूप में उपस्थित हूं।इसलिए आप लोगों से भी अनुरोध है कि मुझे अपना आशीर्वाद दें।उन्होंने बूथ समिति के कार्यों को अत्यंत महत्वपूर्ण बताते हुए बूथ समिति सदस्यों से अनुरोध करते हुए कहा कि वह चुनाव के दिन एक जून को मतदान शुरू होने से डेढ़ घंटे पहले अपने बूथ पहुंचकर मॉक पोल में शामिल हों तथा एक-एक मतदाता बूथ पहुंच कर वोट डाले, इसका ध्यान रखें।सम्मेलन को जिला मीडिया प्रभारी अब्दुल सलाम, मुखिया संघ के प्रखंड अध्यक्ष चार्लेस बेसरा,प्रखंड प्रमुख बाबूलाल मुर्मू,छोटेलाल मंडल, जॉन सोरेन, नेपाल मारिक एलिजाबेथ हेंब्रम, सोमलाल मरांडी, भूतपूर्व जिला परिषद सदस्य बेरोनिका मुर्मू आदि ने भी संबोधित किया।सम्मेलन में बूथ समिति सदस्यों के साथ-साथ प्रखंड कार्यकारिणी समिति, पंचायत अध्यक्ष एवं सचिव तथा प्रखंड क्षेत्र में निवास करने वाले जिला कार्यकारिणी सदस्य शामिल थे।

By Juhi Pradhan

कर्मभूमि जमशेदपुर

Related Post