Sun. May 26th, 2024

विष्णु अग्रवाल की निर्मला सीतारमण से मुलाकात पर बंधु तिर्की हमलावर, बोले बंधु – बाबूलाल को भ्रष्टाचार पर बोलने का कोई हक नहीं

By Juhi Pradhan May 10, 2024

मांडर के पूर्व विधायक बंधु तिर्की ने राँची मोरहाबादी में प्रेस कॉन्फ्रेंस कर बीजेपी पर अपनी भड़ास निकाली है। उन्होंने कहा है कि बीजेपी के नेता झारखंड की जनता को बेवकूफ समझती हैं। इसलिए प्रदेश में तरह-तरह के घटनाएं होती है। क्योंकि वो जानते हैं कि यहां के लोग बिहार-उत्तरप्रदेश के लोगों की तरह राजनीति को नहीं समझती है। इसलिए समय-समय पर इनके द्वारा तरह-तरह के इंवेट करा कर इन्हें बेवकूफ़ बनाती है।जैसे कि कल देश की वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण और विष्णु अग्रवाल और बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष बाबूलाल की तस्वीर हमने देखी है। सोशल मीडिया और अखबार में यह वायरल है। लव जिहाद, लैंड जिहाद की बात प्रधानमंत्री द्वारा कही जाती आई है। पूरा राज्य जानता है कि विष्णु अग्रवाल को जमीन का माफिया, प्रधानमंत्री ने कहा कि सेना का जमीन बेच दिया।

 

हेमंत सोरेन को झूठे केस में फंसाया गया।

 

आपको बता दूं कि यही विष्णु अग्रवाल सेना का जमीन के मामले में आरोपी है जेल भी जा चुके है। फिलहाल बेल पर बाहर हैं। लेकिन दूसरी तरफ हेमंत सोरेन को झूठे केस में फंसा कर अंदर कर दिया गया है। यह सब चुनाव को लेकर एक प्रीप्लान तैयार किया गया है। कुछ दिन पहले आलमगीर आलम के पीए के नौकर के आवास पर छापा मारा जाता है। वहां से राशि निकलता है। इसके दूसरे-तीसरे दिन वित्त मंत्री झारखंड आती हैं। वहां उनसे विष्णु अग्रवाल मिलते हैं। इतना ही नहीं वहां आसपास लैंड माफिया से जुड़े काफी लोग वहां मौजूद थे।

 

झारखंड में बीजेपी से लड़ने के लिए अभी भी बंधु तिर्की जैसे लोग हैं.

 

झारखंड उच्च न्यायालय ने कहा है कि जमीन माफिया का सूची डीजीपी से तैयार कर मांगा गया है। ये लोग जानते हैं कि यहां की जनता भोलीभाली है।

राजनीति को समझते नहीं हैं। बाबूलाल सुबह से शाम तक भ्रष्टाचार पर बोलते हैं लेकिन अब उनका इन सब पर बोलने का कोई हक नहीं है। अगर ईडी के प्रधानमंत्री को इतना दम है तो न्यूक्लियस मॉल में किसका-किसका पैसा लगा है उसकी जांच होनी चाहिए। ये लोग सोचते होंगे कि राज्य में अभी भी बंधु तिर्की जैसे लोग जिंदा है । जिसको आपने बिना दोष के फर्जी पीआईएल दर्ज कराकर उनकी विधायकी खत्म करा दिए। इनको जानकारी होनी चाहिए कि आज भी झाऱखंड में इनसे लड़ने के लिए बंधु तिर्की जैसे लोग जिंदा हैं। इन लोगों का डील हुआ है कि सेना के जमीन मामले में विष्णु अग्रवाल बाहर और हेमंत सोरेन को अंदर किया जाए।

By Juhi Pradhan

कर्मभूमि जमशेदपुर

Related Post