Sat. May 25th, 2024

बड़ा सिगदी बिरसा मंच में, सिद्धेश्वर सरदार के नेतृत्व में गांव गणराज्य दिवस धूमधाम से मनाया गया

 

पोटका के बड़ा सिगदी बिरसा मंच में ग्राम सभा फेडरेशन का प्रदेश सलाहकार सिद्धेश्वर सरदार के नेतृत्व में गांव गणराज्य दिवस धूमधाम के साथ मनाया गया। आज गांव गणराज्य दिवस पर अमर वीर शहीदों का श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए गांव गणराज्य दिवस का शुरुआत हुआ। विभिन्न ग्राम सभाओं से आए हुए ग्राम सभा के अगुवाई, ग्राम प्रधान मुड़ा, माझी,परानीक,डाकुया, गोड़ेत, नाया, नायके, के बीच विमर्श का भी आयोजन हुआ। जिसमें साल भर में अपना ग्राम सभा संचालन में क्या-क्या उपलब्धि हुया, क्या-क्या कमी रहा और सामूहिक रूप से ग्राम सभा फेडरेशन के स्तर पर सामूहिक रूप से काम करने का भी सुझाव दिया। विमर्श में अपना बात रखते हुए सिद्धेश्वर सरदार ने कहा कि हमारे देश में जनजातीय के लिए आपार सहानुभूति रही है। शुरुआत में नेहरू युग में पंचशील अतुलिनिय संविधान प्राबधान जिसमें जनजातीय मामले को दलगत, राजनीति से ऊपर, राष्ट्रीय दायित्व माना जाता है। 1974 में आदिवासी उपयोजना से शोषन समाप्ति के लिए प्रतिबद्ध, 1996 के पेसा कानून के तहत् गांव गणराज्य जैसा व्यवस्था का होना, 2006 में वनधिकार कानून ऐतिहासिक अन्नाय के खतमों का शामिल है। सारे वादे दुखद पहलू बनकर रह गया है। और आगे कोई तरह का चुनौतियां का ग्राम सभा फेडरेशन को सामना करना पड़ेगा। विमर्श के बाद सांस्कृतिक कार्यक्रम का भी दिवस के खुशी हाली के रूप में मनाया गया। आदिवासी महिला एवं पुरुषों के द्वारा अपनी सांस्कृतिक वेशभूषा में ढोल लंगड़े नाच का प्रस्तुत किया गया। एक सांस्कृतिक कार्यक्रम आदिम निवासी होनकिन आखड़ा नूतन डीह, विधु चंदन सारणा मार्शल माडवा चंदनपुर, आदिम आखड़ा एभेन नापाम जियार तिरिल घुटु सामिल था। मौके पर सलाहकार सिद्धेश्वर सरदार विभीषण, लखविंदर सरदार सुरेश सरदार जयंती सरदार गौरी सरदार जवा टुडू अनिता कुमारी धनु टुडु, रघुनाथ सोरेन सालगे माझी,
, मालती सरदार, रामेश्वर माझी, छोटराई सोरेन, छोटू मुंडा, महन सबर, दुलु राम सोरेन, मतला सोरेन, सिगराई किस्कु, अर्जुन सरदार ,सुरेश सरदार, श्रीमती विमला सरदार, आदि उपस्थित रहे।

Related Post