Sun. May 26th, 2024

ब्रह्माकुमारी ईश्वरीय विश्वविद्यालय हल्दीपोखर की ओर से हल्दी पोखर बंगाली पाड़ा दुर्गा मंदिर परिसर में कृष्ण जन्माष्टमी के शुभ अवसर पर भग्य कार्यक्रम का आयोजन किया गया

ओम शांति प्रजापिता ब्रह्माकुमारी ईश्वरीय विश्वविद्यालय हल्दी पोखर शाखा की ओर से भारतीय संस्कृति के सर्वश्रेष्ठ परम पावन पर्व श्री कृष्ण जन्माष्टमी के उपलक्ष में बहुत ही सुंदर एवं भव्य कार्यक्रम का आयोजन बंगाली पाड़ा स्थित दुर्गा मंदिर काली मंदिर परिसर में किया गया जिसमें श्री कृष्ण की जन्म जन्म एवं बाल लीला के साथ-साथ राधा कृष्ण लीला की भी जीवंत झांकी प्रस्तुत की गई बच्चों ने अनेक अनेक निर्मित संगीत के माध्यम से कार्यक्रम को बहुत ही मनमोहक एवं बना दिया इस अवसर पर शहर के काफी संख्या में श्रद्धालु एवं भक्तों ने कार्यक्रम का लाभ लिया जन्माष्टमी पर्व के आध्यात्मिक रहस्य को स्पष्ट करते हुए स्थानीय ब्रह्माकुमारी प्रभारी सुलेखा बहन ने उपस्थित जन समूह को बताया श्री कृष्णा केवल भक्ति भाव के ही नहीं बल्कि सज्जू की स्वर्णिम भारत के प्रथम महाराज कुमार भी है उनके राज्य में हर न एवं नई शारीरिक भांग से ऊपर उठकर एक आध्यात्मिक प्रेम का संदेश देता है इनके कार्यकाल में भारत भूमि धन-धन समृद्ध एवं प्रकृति शुद्ध सातों प्रधान थी मानव तो क्या पशु-पक्षी भी आपस में प्रेम प्यार से रहते थे हिंसा का नाम होना निशान नहीं था दूध घी के नदिया बहती थी उसे समय का भारत स्वर्णिम काल कहलाता था प्रजापिता ब्रह्माकुमारी ईश्वरीय विश्वविद्यालय पुणे ऐसे भारत की पुनर्स्थापना के लिए हर संभव प्रयास कर रहा है आज लोगों की दिलों इच्छा है कि पुणे भारत सज्जू स्वर्ग बन जाए जहां किसी प्रकार का दुख अभाव न हो लेकिन यह मानवता के बस की बात नहीं है सृष्टि के रचयिता परमपिता परमात्मा स्वयं ब्रह्मकुमारी के द्वारा उसे स्वर्णिम दुनिया की स्थापना का कार्य कर रहे हैं उसे स्वर्णिम दुनिया में चलने के लिए हम आप सभी को आमंत्रित करते हैं जिस भाव से आप सभी ने जन्म-जन्मांतर भक्ति की है इसका लाभ लेने का यह सुंदर समय है आप सभी ब्रह्मा कुमारीज के सिवा केदो पर उपस्थित होकर विरोध जानकारी प्राप्त कर सकते हैं इस कार्यक्रम में ब्रह्माकुमारी संस्था से जुड़े सभी भाई-बहन माता का बहुत ही प्रेरणादायक सहयोग रहा इस कार्यक्रम के सहयोग के लिए हम सबके प्रति आभार व्यक्त करते हैं

Related Post