Sun. May 19th, 2024

बड़का बलबल में हाथियों के झुंड के हमले से वृद्ध बाल बाल बचा

बड़का बलबल में हाथियों के झुंड के हमले से वृद्ध बाल बाल बचा।

टीपू खान की रिपोर्ट

बालूमाथ थाना क्षेत्र अंतर्गत मुरपा पंचायत के बड़का बलबल में हाथियों के झुंड ने फिर एक बार अन्तंक मचा कर एक घर को ध्वस्त करते हुए एक सोए वृद्ध व्यक्ति रमेश भगत उम्र 64 वर्ष के उपर पूरी दिवाल को गिरा दिया जिस से पूरा शरीर दब गया सिर्फ सर बचा हुआ था ।दिवाल गिर जाने से वृद्ध व्यक्ति रमेश भगत को अंदुरूनी गंभीर चोट आई है साथ ही साथ घर में रखे अनाज चावल महुआ आलू धान बिहान इत्यादि को खा गए ।घर में रखे सारे सामान को तोड़ते एवम दिवाल गिर जाने से घर में रखे बर्तन तक चपटा हो गए।

इसके पूर्व भी हाथियों के झुंड ने इसके घर को ध्वस्त करते हुए बहुत ही जायदा नुकसान पहुंचाया था।बार बार गरीब परिवार के घर को नुकसान पहुंचने के कारण अब पीड़ित परिवार को इस बारिश में सर छुपाने का कोई स्थान नहीं। खाने पीने का सारा सामान एवं बर्तन तक नष्ट हो गया। रमेश भगत के पास इलाज कराने तक का पैसा नही है। घटना की जानकारी मिलते ही भाजपा मंडल अध्यक्ष लक्ष्मण कुशवाहा एससी मोर्चा जिला उपाध्यक्ष अमित कुमार पीड़ित के घर बड़का बलबल पहुंच पीड़ित परिवार से मिल मामले की जानकारी ली और मौके पर वन विभाग के पदाधिकारी विजय संकर शर्मा को 10 बार कॉल लगाए जाने के बाद भी कॉल रिसीव नहीं किया ।इस से वन विभाग के कार्य पर बहुत बड़ा सवाल उठता है आखिर वन विभाग सिर्फ मृतक को मुआवजा देने के लिए बना है या गरीब परिवार पर फर्जी केस कर पैसा कमाने का जरिया बना दिया है। भाजपा मंडल अध्यक्ष लक्ष्मण कुशवाहा ने कहा की वन विभाग एवं सरकार के इस रवैया से सुदूर छेत्र के ग्रामीण का जीना मुस्किल हो गया पिछली घटना में सरकार एवम वन विभाग के द्वारा पक्का मकान का वादा किया गया था जो अभी तक पूरा नहीं हुआ। एससी मोर्चा जिला उपाध्यक्ष अमित कुमार ने कहा की पीड़ित परिवार के दुख को देख और इस भ्रष्ट सरकार के पदाधिकारी सिर्फ लूट खसोट के लिए अपने पद पर बने हुए ।किसी को गरीब के प्रति अपनी जिमेदारी का एहसास नहीं है । अगर सरकार एवम वन विभाग का यही हाल रहा तो जल्द ही वन विभाग के खिलाफ हजारों के संख्या में उग्र आंदोलन किया जाएगा।

मौके पर भाजपा मंडल अध्यक्ष लक्ष्मण कुशवाहा एससी मोर्चा जिला उपाध्यक्ष अमित कुमार पीड़ित रमेश भगत उम्र 64 वर्ष कलवाती देवी

पंकज भगत बलराम भगत दिलीप भगत प्रदीप भगत सुनीता देवी जसमानी देवी अक्षय भगत अजीत भगत सोनमणि देवी शांति देवी मन्नती देवी बिजेंद्र गांझु सुनील कुमार समेत दर्जनों पीड़ित ग्रामीण मौजूद रहे।

Related Post