Sun. May 19th, 2024

9 महीना के प्रेगनेंसी महिला को झोलाछाप डॉक्टर ने दवा दे दी जिससे महिला के पेट में ही बच्चे की मौत हो गई अब महिला की भी रिम्स में मौत हो गई

*चंदवा में झोलाछाप डॉक्टरों का आतंक*

  1. 9 महीना के प्रेगनेंसी महिला को झोलाछाप डॉक्टर ने दवा दे दी जिससे महिला के पेट में ही बच्चे की मौत हो गई अब महिला की भी रिम्स में मौत हो गई

 

मुकेश कुमार सिंह

 

चंदवा। चंदवा के लाधूप पंचायत अंतर्गत हेसला के भरी गांव का रहने वाला जागेश्वर गंझू की पत्नी रीना देवी की 9 महीना प्रेगनेंसी में झोलाछाप डॉक्टर रामदेनी साव के द्वारा इलाज किया गया था। रीना देवी ने खुद बताई थी कि देनी साव के द्वारा हमें इलाज किया गया जिससे हमारा बच्चा पेट में ही मर गया उसके बाद हमारी भी बहुत हालत खराब है रीना देवी की चाची साथ ने बताया कि हम लोग को उस पर भी पता नहीं था देनी साहू के द्वारा रीना देवी को इलाज किया गया जिससे उसका पेट में 9 महीना का बच्चा का मौत हो गया किसी तरह गांव की महिला के द्वारा ही पेट से बच्चा को मरा हुआ निकाला गया था। उसे 4 दिन पूर्व ही दफन किया गया इधर बच्चा होने के बाद रीना देवी का हालात बहुत गंभीर दिखाई दे रहा था। रीना के पति जगेश्वर गंझू के द्वारा रीना को चंदवा के समुदायिक स्वास्थ्य केंद्र लाया गया था। जिको देख कर डॉ नन्द कुमार पांडेय ने लातेहार सदर अस्पताल रेफर कर दिया। लगभग एक सप्ताह सदर अस्पताल में इलाज के बाद रीना की हाल में सुधार नही होने से लातेहार सदर अस्पताल के डॉक्टरों ने भी रीना को रिम्स रेफर कर दिया जहाँ उसकी तीन दिन पूर्व ही मौत हो गई। इधर झोलाछाप डॉक्टर रामदेनी साव के द्वारा इलाज के दौरान किसी तरह की आर्थिक मदद भी नहीं की गई जिससे जच्चा-बच्चा दोनों की मौत हो गई।

इधरसूचना मिलने के बाद लातेहार सीएस डॉ दिनेश कुमार ने कहां की हमारी टीम मृत के घर जाएगी और घर के परिवार से मिलकर जांच पड़ताल करेगी उसके बाद कानूनी कार्रवाई की जाएगी

Related Post