Sun. May 26th, 2024

संत जेवियर कॉलेज के एन.एस.एस. स्वयंसेवकों ने क्लीन इंडिया-2 के तहत चलाया स्वच्छता अभियान

*संत जेवियर कॉलेज के एन.एस.एस. स्वयंसेवकों ने क्लीन इंडिया-2 के तहत चलाया स्वच्छता अभियान*

महुआडांड़ संवाददाता शहजाद आलम की रिपोर्ट

राष्ट्रीय युवा कार्यक्रम एवं खेल मंत्रालय, भारत सरकार के निर्देशानुसार संत जेवियर महाविद्यालय महुआडांड़ में प्लास्टिक मुक्त कार्यक्रम आयोजित किया गया। इस कार्यक्रम के मुख्य अतिथि महुआडांड़ पंचायत के मुखिया श्रीमती प्रमिला मिंज ने कार्यक्रम की शुभारंभ की। इस अभियान के तहत संत जेवियर इकाई के स्वयं सेवक सेविकाओं ने महाविद्यालय परिसर के चारों ओर व मुख्य प्रवेश द्वार और मुख्य पथ के अगल-बगल सिंगल यूज प्लास्टिक का एकत्रीकरण का कार्य किया। इस अभियान के तहत संत जेवियर परिसर से लगभग 25 किलोग्राम सिंगल यूज प्लास्टिक एकत्रित कर महुआडांड़ पंचायत के मुखिया को निपटारे हेतु सुपुर्द किया गया। स्वच्छ भारत अभियान भारत सरकार द्वारा आरम्भ किया गया राष्ट्रीय स्तर का अभियान है। जिसका उद्देश्य गलियों, सड़कों तथा अधोसंरचना को साफ-सुथरा करना और कूड़ा साफ रखना है।

 

 

इस कार्यक्रम के मुख्य अतिथि महुआडांड़ पंचायत के मुखिया श्रीमती प्रमिला मिंज ने कहा हमेशा स्वच्छता को आदत बनाने आवश्यकता है क्योंकि यह लंबे समय के स्वस्थ और रोग मुक्त जीवनशैली के लिए महत्त्वपूर्ण है। हमारे देश के प्रत्येक नागरिकों को कचरा निस्तारण के सही तरीकों की जानकारी हो। अपशिष्ट निपटान प्रणाली हमें कचरे को विभिन्न श्रेणियों में अलग करने की अनुमति देती है ताकि सफाई कर्मी कचरे का आसानी से निपटान या पुनर्चक्रण कर सकें।

 

 

संत जेवियर के प्राचार्य फादर डॉ एमके जोश ने कहा कि सिंगल यूज प्लास्टिक का बढ़ता उपयोग मानव जीवन एवं पर्यावरण दोनों के लिये बहुत नुकसानदायक है। उन्होंने सभी से इसका उपयोग बंद करने का आह्वान किया और स्वयं सेवक सेविकाओं से अनुरोध किया कि वे पॉलीथिन का उपयोग बंद करें, बाजार से सामान लाने के लिए कपड़े के झोले का उपयोग करें और दूसरे लोगों को भी इस बारे में जागरूक करें।

 

 

एन.एस.एस कार्यक्रम पदाधिकारी मैक्सेनसियुस कुजूर ने कहा क्लीन इंडिया-2 कार्यक्रम के अंतर्गत स्वयंसेवकों को संदेश दिया कि सार्वजनिक स्थानों पर कूड़ा करकट नहीं डालना चाहिए। अगर हम कोई भी चीज खाते हैं तो उसके रेपर को डस्टबिन में ही डालना चाहिए इधर उधर नहीं फेंकना चाहिए। इस दौरान लोगों को कम से कम प्लास्टिक का उपयोग करने के लिए भी प्रेरित किया।

प्रो सुभास सामंत ने कहा कि प्लास्टिक के प्रयोग से बचें ताकि आप भी अपने गांव, जिले, राज्य व देश को स्वच्छ बनाने मे सक्रिय सहयोग दे सकें।

 

 

 

इस मौके पर प्रो फादर साइमन मुर्मू, प्रो अभय सुकुट डुंगडुंग, प्रो रश्मि सुमन, प्रो विउला भेंगरा,प्रो जॉन विनोद कुजूर, प्रो नेहा मिंज मिंज, प्रो कीर्ति मिंज, प्रो रोस एलिस, प्रो डॉ प्यारी कुजूर, प्रो शेफाली प्रकाश, प्रो शशि शेखर, प्रो अमृत मिंज, प्रो मन्नु कुमार शर्मा आदि प्राध्यपकगण व संत जेवियर इकाई के स्वयं सेवक सेविका गण उपस्थित थे।

 

 

 

 

 

 

 

Related Post