Sun. May 26th, 2024

चंदवा सीएचसी में शौचालय टंकी से दुर्गंध । जनता और कर्मचारी दुर्गंध से परेशान परंतु प्रबंधन की अनदेखी

चंदवा सीएचसी में शौचालय टंकी से दुर्गंध

 

*दुर्गंध से जनता और कर्मचारी परेशान परंतु प्रबंधन की अनदेखी*

चंदवा संवाददाता मुकेश कुमार सिंह की रिपोर्ट

चंदवा।चंदवा के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में 30 बेड का अस्पताल है वही चंदवा का मात्र एक सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र है जिसमें लगभग डेढ़ लाख आबादी का धरोहर भी माना जाता है देखा जाता है कि सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में लगभग एक सौ से ऊपर मरीज ओपीडी में जाते हैं वही मरीज भर्ती होने की संख्या 5 से 10 होती रहती है कई प्रकार के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में हर महीना ट्रेनिंग भी दी जाती है परंतु अस्पताल में शौचालय टंकी का दुर्गंध इतना जोर होता है की अस्पताल परिषर में रहना मुश्किल लगता है देखा जाता है कि टंकी से दुर्गंध तो होती ही है परंतु उसका पानी भी इधर उधर निकलते रहता है अगर दीवाल नहीं हो तो टंकी का पानी अस्पताल परिसर में घुस जाएगा जिससे बहुत ही परेशानी का सामना करना पड़ेगा ऐसी स्थिति को देखते हुए भी अस्पताल प्रबंधन चैन की निद्रा में सो रही है और दुर्गंध भी स्वयं लेती रहती है अस्पताल परिसर में घुसते के साथ ही मरीज और अस्पताल कर्मचारी अपना नाक बंद कर लेते दिखाई देते रहते हैं कई बार तो ऐसा होता है की बहुत दुर्गंध होने पर अस्पताल के प्रबंधन के द्वारा टंकी के आस पास ब्लीचिंग पाउडर का छिड़काव करा दिया जाता है कुछ देर तो दुर्गंध शांत रहती है परंतु दुर्गंध फिर दोबारा शुरू हो जाता है केंद्र में व्यक्ति स्वस्थ्य होने जाता है पर कुछ लोग बाहर निकलने के बाद यह भी कहते हैं कि सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र चंदवा में आदमी और बीमार पड़ जाएगा कई बार प्रबंधन को सूचना के बाद भी शौचालय की टंकी को ठीक नहीं कराया जाता है जो दुर्भाग्यपूर्ण है भारत सरकार स्वच्छता अभियान चलाती है परंतु स्वच्छता तो अस्पताल में ही नहीं दिखाई देता है। वहीं शौचालय टंकी के ठीक बगल में ही ओपीडी देखा जाता है मरीज और मरीज के साथ है गए अटेंडेंट भी अस्पताल प्रबंधन को कई बार व्यक्तिगत इस दुर्गंध के बारे में कहते है परंतु अस्पताल प्रबंधन चयन की निद्रा में सोई हुई रहती है लातेहार सिविल सर्जन और लातेहार उपायुक्त से कहना है कि सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र के शौचालय टंकी को दुरुस्त करा कर दुर्गंध से निजात दिलाने का कृपा की जाए। सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में डीएमएफटी के तहत तो कई विकास कार्य चल रहे हैं परंतु शौचालय टंकी के तरफ नजर किसी कि नहीं गई है।

Related Post