Sat. May 25th, 2024

शुरू होगा पंचायत स्तर पर बालू का उठाव*  *जिले में 36 बालू घाटों से होगा बालू का उठाव

*शुरू होगा पंचायत स्तर पर बालू का उठाव*

 

*जिले में 36 बालू घाटों से होगा बालू का उठाव*

लातेहार अजय सिन्हा की रिपोर्ट

लातेहार:- जिले में पंचायत स्तर पर 36 बालू घाटों से 16 अक्टूबर से बालू का उठाव शुरू हो गया। उक्त बातें जिला खनन पदाधिकारी आनंद कुमार ने कही। उन्होंने कहा कि सरकार के द्वारा बालू खनन पर एनजीटी की रोक हटाते हुए 16 अक्टूबर से पंचायत स्तर पर बालू का उठाव शुरू हो गया। जबकि शहरी क्षेत्र में बालू घाटों की नीलामी को लेकर सर्वेक्षण रिपोर्ट बनाया जा रहा है। सर्वेक्षण रिपोर्ट तैयार होने के बाद ही पता चलेगा कि जिले में कितने बालू घाटों के नीलामी होगी। डीएमओ ने आगे कहा कि बालू घाटों से उठाव किए गए बालू का उपयोग निजी, गैर व्यवसायिक, सामुदायिक उद्देश्य सरकार द्वारा प्रायोजित कल्याणकारी योजनाओं के कार्यान्यवन आदि के लिए होगा। इन बालूघाटों में बालू के उठाव के लिए किसी भी परिस्थिति में मशीन का प्रयोग नहीं किया जाएगा तथा बालू के परिवहन में ट्रैक्टर को छोड़कर किसी भी अन्य भारी वाहन का उपयोग नहीं किया जाएगा। इन बालू घाटों से बालू का उठाव कर उसका भंडारण अन्यत्र जगहों पर नहीं किया जाएगा। बालूघाटों से उठाये गए बालू का स्वामित्व कर रॉयल्टी टेक्स से मुक्त होगा। बालूघाटों के पहुंच पथ, प्रबंधन पर्यवेक्षण इत्यादि के लिए सरकार द्वारा निर्धारित संधारण राशि ग्राम पंचायत या स्थानीय शासन द्वारा किया जाएगा जो कि बालू प्राप्तकर्ता को एक प्रति ग्राम पंचायत या स्थानीय स्वायत्त शासन द्वारा लिया जाएगा जो कि बालू प्राप्तकर्ता को एक प्राप्ति सह परिचलन स्लिप निर्गत करेंगे। प्राप्त सह परिचालन स्लिप का त्रिपल्लक्लेट में संधारण किया जाएगा। जिसकी एक प्रति ग्राम पंचायत का स्थानीय स्वायत्त शासन के प्रबंधन के पास स्लिप का एक प्रति बालू खनिज प्राप्तकर्ता के पास तथा एक पर्ची प्राधिकृत प्रवर्तन पदाधिकारी के लिए होगा। यह प्राप्ति सह संचालन स्लिप तीन प्रति में संधारण किया जाएगा। इस प्रकार एकत्र राशि का उपयोग संधारण झारखंड स्टेट सेंड माइनिंग पॉलिसी 2017 के अनुसार किया जाएगा। बालू घाट से प्राप्त राजस्व का अलग से खाता संचालन ग्राम पंचायत द्वारा किया जाएगा। बैंक खनिज से प्राप्त होने वाला राजस्व राशि केश बैंक खाता में जमा करने की जिम्मेदारी संबंधित पंचायत सचिव की होगी।

Related Post