Sun. May 19th, 2024

डीवीसी के द्वारा भूमि पूजन के दौरान दो पक्षों में हुआ मारपीट कई लोग घायल

डीवीसी के द्वारा भूमि पूजन के दौरान दो पक्षों में हुआ मारपीट कई लोग घायल

 

लातेहार अजय सिन्हा की रिपोर्ट

लातेहार सदर प्रखंड के नेवाड़ी पंचायत के मंगरा ग्राम के समीप नवरात्र के शुभ अवसर पर सोमवार को दामोदर कोल माइंस के ईडी सुबोध मुखर्जी के द्वारा गैर आदिवासी के जमीन पर भूमि पूजन किया गया इसकी भनक जैसे ही आदिवासी को मिली तो पारंपरिक हथियार के साथ लैस होकर पूजा स्थल पर पहुंचे औऱ दो पक्षों में तू तू में होने लगा और देखते ही देखते मारपीट में तब्दील हो गई जिसमें एक पक्ष के पांच लोग अमृता देवी गेंदवा उरॉव गुड़िया देवी प्रमिला देवी विष्णु उराव, रवि उरांव, गंभीर रूप से घायल हो गए हैं वहीं दूसरे पक्ष के प्रीतम सिंह समेत अन्य लोग भी घायल हैं इसके बाद इसकी सूचना जिला प्रशासन को मिलते ही अंचलाधिकारी रूद्र प्रताप प्रखंड विकास पदाधिकारी मेघना उराव, सदर थाना प्रभारी अमित कुमार गुप्ता महिला औऱ पुरुष बल के साथ मौके पर पहुंचे और मामले को शांत कराया। आदिवासी समुदाय ने जिला प्रशासन की एक नहीं सुनी और कालीकरण रोड के पास गोल बंद कर धरना पर बैठ गए। घंटो तक धरना में बैठे जाने के कारण लोगों को आने जाने में काफी कठिनाई का सामना करना पड़ रहा है। वही मौके पर मौजूद अंचलाधिकारी रूद्र प्रताप सदर थाना प्रभारी अमित गुप्ता के द्वारा धरना पर बैठे लोगों को काफी समझाने के बावजूद भी । एक नहीं सुनी गई और धरना पर बैठे रहे इस दौरान ईन्होंने ने कहा कि बिना बताए ही डीवीसी के द्वारा भूमि पूजन किया जा रहा था जैसे ही हम लोग पूछने के लिए वहां पहुंचे की हम लोगों के साथ मारपीट की गई । जबकि हम भी रैयत है। हम लोगों को पूछना अधिकार है। आज जो हम लोग के साथ जिस तरह से मारपीट किया गया है। हम किसी भी पर डीवीसी को जमीन नहीं देना चाहते हैं । कंपनी जबरजस्ती हमारी जमीन को लेना चाहती हैं जबकि यह जमीन हमारे पूर्वजों का खून पसीना बहाकर बचाया है आगे इन्होंने कहा कि हम किसी भी हाल पर जमीन नहीं देंगे जान देंगे पर जमीन नहीं देंगे । आगे बताया कि कुछ लोग है जो मानसिक रूप से बीमार हैं उन लोगों को बिचौलियों के द्वारा आधार कार्ड पर ठेपा लगा कर जमीन लेने का प्रयास किया जा रहा। उनके बिना जानकारी के ही उनके अकाउंट में पैसा डाल दिया जा रहा है। जबकि यह सरासर अन्याय है। आंदोलन तब तक चलेगी जब तक डीवीसी कंपनी के द्वारा कंटेनर को पुनः वापस नहीं ले ले जाया जाता हैआगे उन्होंने कहा कि इससे पूर्व भी हम लोगों ने कंटेनर हटाने को लेकर विरोध किया था। वही दूसरे पक्ष के प्रीतम सिंह ने कहा भूमि पूजन के दौरान हम लोग खड़े थे कि अचानक 300 की संख्या में पारंपरिक हथियार से लैस होकर महिलाएँ औऱ पुरुष यहां पहुंचे और हम लोग के साथ उलझ गए और हम लोग से मारपीट करने लगे जिसमें हम लोगों को चोट लगी है

डीवीसी के अधिकारी बलराम पांडे ने कहा कि जिस तरह से इन लोगों के द्वारा हम लोगों पर जबरजस्ती जमीन हड़पने का आरोप लगाया जा रहा है यह सभी आरोप बेबुनियाद है क्योंकि बिना रैयत के अनुमति से जमीन नहीं खरीद सकते हैं जितना भी जमीन लिया गया है । रैयत के मर्जी से ही जमीन लिए हैं यह सभी आरोप बेबुनियाद है

Related Post