Thu. Jul 18th, 2024

जो उम्मीद हम सामने वाले से करते है। उसकी अलख हमे स्वयं के भीतर सर्वप्रथम जगाना चाहिए- *प्रोफ़ेसर दशरथ साहू

*जो उम्मीद हम सामने वाले से करते है। उसकी अलख हमे स्वयं के भीतर सर्वप्रथम जगाना चाहिए*.. – *प्रोफ़ेसर दशरथ साहू*

लातेहार संवाददाता राहुल पांडे की रिपोर्ट

अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस के अवसर पर अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद लातेहार द्वारा रक्तदान शिविर का आयोजन गांधी इंटर महाविद्यालय लातेहार के परिसर में किया गया।

इस अवसर पर गांधी इंटर महाविद्यालय लातेहार के प्राचार्य सह abvp लातेहार जिला प्रमुख श्री दशरथ साहू ने कहा कि शरीर के विभिन्न अंग कृत्रिम रूप से बनने लगे हैं, लेकिन रक्त एक ऐसा तत्व है, जो नहीं बनाया जा सकता। ये एक मानव से दूसरे को दिया जा सकता है। खून की कमी से किसी की जान न जाए, इसकी उद्देश्य के साथ शिविर आयोजित किया गया है।

 

इनका रहा सहयोग

शिविर में लैब टेक्नीशियन श्री विनय कुमार सिंह ,श्री चंदन कुमार, श्री सुरेंद्र बड़ाइक एबीवीपी के प्रदेश सह मंत्री श्री रमेश उरांव,कमलेश उरांव,मिलन शुक्ला, *रक्तदाता* उषमा कुमारी ,नमिका कुमारी, बजरंग उरांव, मानेस्वर उरांव, अरब अंसारी,रंजीत कुमार सिंह,आनंद कुमार,हरेंद्र उरांव,राजेश सिंह, मधु सिंह ,अर्जुन मुंडा, विशेष सहयोग रहा।

रक्त वीरांगना उषमा कुमारी ने कहा पहली बार रक्तदान कर रही हूूं। महिला दिवस पर रक्तदान करने पर काफी खुशी हो रही है।ओर रक्तदान करने से

– ब्लड प्रेशर नियंत्रित होता है

– कैलोरी खर्च होने से शरीर की चर्बी घटती है

– शरीर में कोलेस्ट्रॉल की मात्रा घटती है

– रक्तदान से नई कोशिकाओं का सृजन होता है

– नियमित अंतराल में रक्तदान से शरीर में आयरन की मात्रा संतुलित रहती है

 

नामिका कुमारी ने कहा रक्तदान महादान है, हर किसी को करना चाहिए। दान किया हुआ रक्त किसी की जिंदगी को बचाने के काम आ सकता है। पहली बार रक्तदान करने का मौका मिला है। किसी की जान बचाने में मेरा रक्त काम में आएगा, यह जीवन की सबसे बड़ी उपलब्धि है।

Related Post