Sun. Jun 23rd, 2024

कैट ने प्रधानमंत्री और अन्य मंत्रियों से भारत में चीनी ऐप शॉपी का संज्ञान लेने का आग्रह किया

कैट ने प्रधानमंत्री और अन्य मंत्रियों से भारत में चीनी ऐप शॉपी का संज्ञान लेने का आग्रह किया

कन्फेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स (कैट ) ने प्रधान मंत्री श्री नरेंद्र मोदी को आज भेजे गए एक पत्र में चीनी ई-कॉमर्स एप्लिकेशन शॉपी के भारत में प्रवेश की ओर उनका ध्यान आकर्षित करते हुए कहा है की शॉपी का स्वामित्व और नियंत्रण चीनी लोगों के पास है और इस बात को ध्यान में रखते हुए सरकार की एफडीआई पालिसी के प्रेस नोट नंबर 3 (2020 सीरीज) ने भारत की प्रत्यक्ष विदेशी नीति को संशोधित करते हुए कहा कि पड़ोसी देशों से भारत (जिसके साथ भारत एक भूमि सीमा साझा होती है) से किसी भी प्रत्यक्ष विदेशी निवेश की अनुमति सरकार की पूर्व स्वीकृति प्राप्त करने के बाद ही दी जाएगी। इस प्रेस नोट की मंशा साफ थी कि किसी भी हाल में देश की सुरक्षा से समझौता नहीं किया जाना चाहिए ! प्रधानमंत्री को भेजे गए पत्र की प्रतियां गृह मंत्री श्री अमित शाह, रक्षा मंत्री श्री राजनाथ सिंह, वित्त मंत्री श्रीमती निर्मला सीतारमण, वाणिज्य मंत्री श्री पीयूष गोयल, महिला एवं बाल विकास मंत्री श्रीमती स्मृति ईरानी और इलेक्ट्रॉनिक्स और प्रौद्योगिकी मंत्री श्री अश्विनी वैष्णव को भी भेजी गई हैं !

 

कैट के राष्ट्रीय महामंत्री श्री प्रवीन खंडेलवाल और राष्ट्रीय सचिव श्री सुरेश सोन्थालिया ने कहा कि एसईए होल्डिंग्स हो शॉपी की होल्डिंग कंपनी है में एक प्रसिद्ध चीनी निवेश फर्म टेनसेंट का महत्वपूर्ण स्वामित्व (लगभग 25%) है। इसके अलावा, एसईए के संस्थापक, फॉरेस्ट ली मूल रूप से चीनी हैं, लेकिन कुछ साल पहले ही एक देशीयकृत सिंगापुरी बन गए। एसईए डेटा स्टोर करने के लिए टेनसेंट के क्लाउड का उपयोग करता है। इसके अलावा, एसईए की गेमिंग सहायक कम्पनी गरेना में भी टेनसेंट का बड़ा निवेश है जो अधिकांश गेम को लाइसेंस देती है, जिससे बड़ी रॉयल्टी मिलती है और निवेश सुनिश्चित रहता है लेकिन डेटा पर टेनसेंट का महत्वपूर्ण नियंत्रण और पहुंच है।

 

श्री खंडेलवाल और श्री सोन्थालिया ने कहा की हाल ही में बड़ी चीनी इंटरनेट कंपनियों जैसे बाइटडांस (टिकटॉक की मूल कंपनी जिसे भारत में प्रतिबंधित कर दिया गया है) और एंट फाइनेंशियल (अलीबाबा की सहयोगी कम्पनी ) में इक्विटी हिस्सेदारी और उसके बोर्ड में चीनी सरकारी संस्थाओं की महत्वपूर्ण हिस्सेदारी का समाचार हाल ही में मीडिया में प्रकाशित हुआ था ! इस बात की वास्तविक संभावना है कि चीनी सरकार अन्य कंपनियों में भी ऐसा ही करेगी जैसे टेनसेंट चीनी सरकार के प्रत्यक्ष प्रभाव में एसईए जैसी कंपनियों को ला रही है

 

कैट ने कहा कि देश का व्यापारिक समुदाय अभी भी विदेशी वित्त पोषित ई-कॉमर्स कंपनियों द्वारा अपनाई गई अनुचित व्यापार प्रथाओं से संघर्ष कर रहा है ऐसे में इस सेगमेंट में एक और विदेशी ई-कॉमर्स कम्पनी के प्रवेश से भारत के घरेलू व्यापार को बड़ा धक्का लगने की सम्भावना है ! ज्ञातव्य है की विदेशी ई कॉमर्स कंपनियां अपने पोर्टल पर पसंदीदा विक्रेताओं के लिए तरजीही व्यवहार, निजी लेबलिंग, बड़े टिकट निर्माताओं के साथ अनुचित और प्रतिस्पर्धी-विरोधी व्यापार मॉडल, गहरी छूट और फ्लैश बिक्री इन ई-कॉमर्स प्लेटफॉर्म का मुख्य आधार बन गए हैं जिसके कारण देश के छोटे व्यापारियों को बेहद मुश्किल का सामना करना पड़ रहा है ! ऐसी स्थिति में भारत में शॉपी के प्रवेश का मतलब केवल इन अनुचित व्यापार प्रथाओं को आगे बढ़ाना है।

 

श्री सोन्थालिया ने यह भी कहा कि शोपी की पसंद के प्रवेश का अर्थ है भारतीय नागरिकों के डेटा और सुरक्षा से समझौता करना, चीनी सामानों के साथ बाजार में बाढ़ आना, विशेष पहुंच वाले बड़े निर्माताओं के साथ प्रतिस्पर्धा-विरोधी गठजोड़ – जो सभी हड़ताल करेंगे हमारे छोटे व्यापारी के पेट में जो पहले से ही अपने व्यवसायों पर COVID के प्रभाव से पीड़ित है।

 

वर्तमान में देश के कानून में स्पष्ट रूप से यह आवश्यक है कि (i) चीन से कोई निवेश या (ii) किसी कंपनी से जिसका लाभकारी स्वामी चीनी है, सरकार की पूर्व स्वीकृति की आवश्यकता है।पहला नियम बहुत स्पष्ट है और लागू किया जा रहा है जबकि दूसरे नियम का उपयोग वर्तमान में कई कंपनियों द्वारा भारतीय बाजारों में पिछले दरवाजे से प्रवेश का रास्ता बन गया है जिसे जांचने और अवरुद्ध करने की आवश्यकता है।

 

कैट ने मांग की है कि सरकार को विदेशी ऐप्स और उनकी प्रविष्टियों की उनके अप्रत्यक्ष चीनी कनेक्शन के आलोक में फिर से जांच करनी चाहिए। स्वीकृत चीनी निवेशक समर्थन के साथ भारत में प्रवेश करने वाले ब्रांडों को प्रेस नोट 3 को दरकिनार कर अपनाए गए ढांचे के बारे में स्पष्टीकरण के लिए कहा जाना चाहिए।

Related Post