Mon. Jun 24th, 2024

टाटा अप्रेंटिस बहाली में जेएमएम ना करें दखलंदाजी ,नहीं तो होगी सिंगूर वाली हालत

By sanjeev kumar Aug 20, 2021

सरायकेला: टाटा अप्रेंटिस बहाली प्रवेश परीक्षा में झारखंड मुक्ति मोर्चा विधायकों द्वारा बिहार समेत अन्य राज्यों के छात्रों को शामिल नहीं किए जाने के मुद्दे का अब झारखंड क्षत्रिय संघ ने भी खुलकर विरोध किया है.

झारखंड क्षत्रिय संघ के केंद्रीय अध्यक्ष शंभूनाथ सिंह ने दो टूक शब्दों में कहा है कि यदि टाटा जैसे सामाजिक कार्यों में बढ़ चढ़कर हिस्सा लेने वाले कंपनी के कार्य में दखल अंदाजी की जाती है तो यहां भी सिंगुर वाली स्थिति उत्पन्न होगी शुक्रवार को झारखंड क्षत्रिय संघ के केंद्रीय अध्यक्ष शंभू नाथ सिंह ने आदित्यपुर स्थित कार्यालय में प्रेस वार्ता कर बताया कि टाटा स्टील जैसी बड़ी कंपनी जनहित के मुद्दों के साथ-साथ सामाजिक कार्य में बढ़-चढ़कर हिस्सा लेती है ,आज जमशेदपुर शहर के विकास में टाटा स्टील की अग्रणी भूमिका है, ऐसे में टाटा स्टील द्वारा निकाले गए ट्रेड अप्रेंटिस बहाली परीक्षा में झारखंड मुक्ति मोर्चा के विधायकों द्वारा केवल स्थानीय आदिवासी और मूल वासियों को प्राथमिकता दिए जाने को न्याय संगत नहीं बताया है, केंद्रीय अध्यक्ष शंभूनाथ सिंह ने कहा कि यदि झारखंड मुक्ति मोर्चा के विधायक इसी प्रकार टाटा स्टील प्रबंधन पर दबाव डालेंगे तो जमशेदपुर की भी स्थिति पश्चिम बंगाल के सिंगुर वाली होगी, जहां से टाटा स्टील को मजबूरन अपना प्लांट शिफ्ट करना पड़ा था. वही कर्मचारी चयन आयोग में राजभाषा हिंदी को शामिल नहीं किए जाने को भी झारखंड छत्रिय संघ ने निंदनीय करार दिया है ,इसके अलावा पाकिस्तान में महान क्षत्रिय योद्धा महाराजा रणजीत सिंह के प्रतिमा तोड़े जाने की भी कड़ी शब्दों में झारखंड छात्र संघ द्वारा निंदा की गई है , प्रेस वार्ता के मौके पर केंद्रीय अध्यक्ष शंभू नाथ सिंह के अलावा प्रदेश महिला मोर्चा अध्यक्ष कविता परमार ,उपाध्यक्ष विमल सिंह, नंद कुमार सिंह राजन सिंह की मौजूद रहे।

Related Post