Mon. Jun 24th, 2024

शहीद निर्मल महतो स्मारक समिति के तत्वधान में शहीद निर्मल महतो का शहादत दिवस पी टी पी एस में मनाई गई

 

आज दिनांक 8 अगस्त 2021 को शहीद निर्मल महतो स्मारक समिति के तत्वधान में शहीद निर्मल महतो का शहादत दिवस पी टी पी एस में मनाई गई जिसकी अध्यक्षता स्मारक समिति के अध्यक्ष किशोर कुमार महतो एवं संचालन रामेश्वर गोप ने किया जिसमें सम्मानित अतिथि के रूप में जिला पार्षद श्रीमती डोली देवी ,श्रीमती अर्चना देवी उपस्थित हुए और पतरातू क्षेत्र के तमाम जनप्रतिनिधि बुद्धिजीवी समाजसेवी सभी लोग उपस्थित हुए श्रीमती डोली देवी ने कहा शहीद निर्मल महतो झारखंड के युवा क्रांतिकारी नेता थे जिन्होंने झारखंड अलग राज्य करने मै इनका हमेशा अहम भूमिका रहा था आज हम लोग के बीच नहीं रहे हम सभी को शपथ लेना चाहिए की इनके कार्यों को अनु ग्रहण कर झारखंड राज्य के लिए हम लोग काम करें जो हमारा झारखंड राज विकसित राज्य के रूप में उभरे वही श्रीमती अर्चना देवी ने कहा की शहीद निर्मल महतो के शहादत दिवस के अवसर पर हम सभी जनप्रतिनिधि उपस्थित होते रहे हैं और इस मंच के माध्यम से संदेश देना चाहते हैं बच्चे और युवा पीढ़ी को इनका जो संघर्ष रहा है उनको हम अपने जीवन में उतार कर झारखंड राज्य को आगे बढ़ाने का काम करना चाहिए इन्होंने कम उम्र में ही झारखंड के आंदोलन में कूद पड़े थे और झारखंड राज्य को अलग करने में अपना जीवन को निछावर कर दिए आज हम सबों को प्रेरणा लेने की जरूरत है कि जो निर्मल दा का सपनों का झारखंड था उसे हर हाल में पूरा करने का शपथ लेने का दिन है और शहीद निर्मल महतो स्मारक समिति के अध्यक्ष किशोर कुमार महतो ने कहा की शहीद निर्मल महतो झारखंड के पुरोहित थे इन्होंने झारखंड राज्य अलग करने के लिए अपना जीवन निछावर कर दिए और जब 8 अगस्त 1987 की सुबह निर्मल दा गेस्ट हाउस जमशेदपुर से बाहर निकल रहे थे उसी समय एक अम्बेस्डर कार से पांच व्यक्ति उतरे और निर्मल महतो पर 3 गोलियां चला दी एक गोली उसके मुंह पर दूसरी गोली पीठ पर तथा तीसरी गोली उनके सीने पर लगी जिससे घटनास्थल पर ही उनकी मृत्यु हो गई इसके साथ ही झारखंड आंदोलन का सबसे चमकता हुआ सितारा बादलों के बीच गुम हो गया उनकी हत्या एक राजनीतिक षड्यंत्र के तहत की गई पर बिहार सरकार ने इसे महज व्यवसाय प्रतिद्वंदिता का नाम देकर केस बंद कर दिया झारखंड अलग राज्य बनने के बाद भी किसी सरकार ने उनकी हत्या के पीछे की साजिश का पर्दाफाश करने में रुचि नहीं दिखाई क्योंकि इससे बहुत से सफेद किसी के चेहरे से पोशो के चेहरे से नकाब उतर सकता था उनका राजनीतिक जीवन खत्म हो जाता आज भी उनकी हत्या का रहस्य बरकरार है आज झारखंड की जनता वर्तमान सरकार से यह मांग करती है कि इसका हत्या का जांच हो और दोषियों को सजा दिया जाए कार्यक्रम में मुख्य रूप से मुखिया राहुल रंजन राजू कुमार गंगाधर महतो नरेश महतो सानिध्य एनजीओ सचिव अमित कुमार सिंह प्रदीप महतो निर्मल जैन गोविंद सोनी विकास कुमार गुप्ता संजीव कुमार सिंह गणेश कुमार ठाकुर पदमच्छ महतो रणधीर कपूर शंभू प्रसाद वर्मा मनीष कुमार झा नंद किशोर महतो महेंद्र मुंडा राजीव कुमार बालकिशुन महतो रमेश कुमार सागर कुमार मनीष कुमार महतो शाहरुख अंसारी अबरार अहमद संजय ठाकुर इत्यादि सैकड़ों लोग उपस्थित हुए

जिला ब्यूरो आरिफ कुरैशी की रिपोर्ट रामगढ़

 

 

Related Post