Fri. Jun 14th, 2024

कृषक मित्र गए अनिश्चितकालीन हड़ताल पर कृषक मित्र को अपमानित करने वाले दोषियों पर शीघ्र कार्रवाई करे सरकार- महासचिव सुभाष सिंह

कृषक मित्र गए अनिश्चितकालीन हड़ताल पर

 

*कृषक मित्र को अपमानित करने वाले दोषियों पर शीघ्र कार्रवाई करे सरकार- महासचिव*

 

रांची – झारखंड प्रदेश कृषक मित्र महासंघ के प्रदेश महासचिव सुभाष सिंह ने प्रेस विज्ञप्ति जारी कर कहा है कि सरकार की महत्वाांक्षी योजना पीएम किसान के लाभार्थियों को शत प्रतिशत केसीसी से अच्छादित करने की योजना है जिसके तहत कृषक मित्र दिन रात मेहनत कर रहे हैं डोर टू डोर जा कर किसानों का केसीसी फॉर्म भर रहे हैं। मैं पूरे दावे के साथ कह सकता हूं कि कृषि संबधी कोई भी कार्य कृषक मित्र ही करते हैं बाकी ऊपर के लोग जनसेवक, एटीएम, बीटीएम, कर्मचारी, पंचायत सचिव, सिओ,सीआई सिर्फ कार्यालय में बैठ कर ऑर्डर फरमाते हैं खानापूर्ति करते हैं किसानों के बीच नहीं जाते हैं कृषक मित्रो के द्वारा किये गए कार्यों का श्रेय लेते हैं। किसानों के बीच रह कर किसानों के घर घर जा कर उनका काम कृषक मित्र ही करते हैं। और जमीन से जुड़ कर काम करने वाले कृषक मित्र के साथ कोई अपसरसाही करे तो बर्दास्त नहीं किया जाएगा। तीन अगस्त को देवघर के कृषक मित्र राजेश कुमार केसीसी फॉर्म ले कर अंचल निरीक्षक के पास गए तो अंचल निरीक्षक ने अपना रौब दिखाते हुए उन्हें अपमानित किया गार्ड को बुलाकर धका मुक्की करवाया अंचल निरीक्षक व गार्ड के इस शर्मनाक रवैये से पूरे राज्य के कृषक मित्रों के सम्मान को ठेस पहुंचा है और दो दिन बीत जाने के बाद भी अब तक दोषियों पर कार्रवाई नहीं होने से प्रदेश के कृषक मित्र मर्माहत हैं।इसलिए प्रदेश कृषक मित्र महासंघ हड़ताल पर जाने का निर्णय लिया है। श्री सिंह ने कहा कि कृषक मित्र बिना कोई पारिश्रमिक भत्ता के सेवा भाव से पूरे ईमानदारी से किसानों के हित के लिए कार्य करते हैं और बदले में उन्हें अपमानित किया जाए तो ये बेहद ही दुर्भाग्यूर्ण व निंदनीय है कृषक मित्र अपने स्वाभिमान के साथ समझौता नहीं कर सकते हैं। महासंघ के प्रदेश अध्यक्ष शशि भगत ने वहां के सीओ बीडियो और डीसी से इस मामले पर बात किए तो सिर्फ कारवाई का आश्वाशन दिया गया है अब तक कुछ किया नहीं गया है।जब तक अंचल निरीक्षक और गार्ड को बर्खास्त नहीं किया जाता है तब तक हमलोगों का हड़ताल जारी रहेगा। आगे महासचिव ने कहा है कि राज्य सरकार अविलंब दोषी पर कार्रवाई करे अन्यथा कृषक मित्र महासंघ हड़ताल के साथ साथ आंदोलन करने को भी बाध्य होगी।

Related Post