Fri. Jun 14th, 2024

गुस्साए टाना भक्तों ने कहां समाहरणालय गेट के पास गायों को बांधकर देंगे धरना बोतल बंद पानी से भी कम कीमत पर दूध बेचने को मजबूर हैं टाना भगत

*बोतल बंद पानी से भी कम कीमत पर दूध बेचने को मजबूर हैं टाना भगत*

 

*गुस्साए टाना भक्तों ने कहां समाहरणालय गेट के पास गायों को बांधकर देंगे धरना*

***राजधानी न्यूज़ ब्यूरो लातेहार बबलू खान की रिपोर्ट**

 

लातेहार :- राज्य सरकार की ओर से आत्मनिर्भर बनाने के लिए टाना भक्तों को 100% अनुदान कर गाय उपलब्ध कराई गई है। परंतु जिला मुख्यालय से सटे नेवाड़ी पंचायत स्थित कैमा गांव में टाना भगत आत्मनिर्भर न बंन कर गायों को परेशानी का सबब मानने लगे हैं। बोतल बंद पानी से भी कम कीमत पर दूध का दाम दिए जाने से नाराज और परेशान टाना भक्तों ने दूध संग्रह केंद्र कैमा गांव में जमकर हंगामा किया साथ ही चेतावनी दी कि टाना भक्तों के साथ शोषण करना बंद करें अन्यथा समाहरणालय गेट के पास सभी गायों को बांधकर धरना देने के लिए विवश हो जाएंगे। गांव के दिनेश टाना भगत बलराम टाना भगत इंद्रदेव टाना भगत समेत अन्य टाना भक्तों ने कहा कि हम लोगों का दूध पानी की कीमत पर भी नहीं लिया जा रहा है। हम लोग के दूध का रेट ₹3 लीटर से लेकर ₹5 लीटर तक मशीन बताती है। ज्ञात हो कि दुग्ध क्रय केंद्र में मशीन से जांच कर टाना भक्तों से दूध लिया जा रहा है। और मशीन दूध का दाम बोतल बंद पानी से भी कम बता रहा है टाना भक्तों ने कहा कि हम लोगों ने दूध संग्रह केंद्र में दूध बेचना बंद कर दिया है उन्होंने कहा कि आत्मनिर्भर बनाने के लिए सरकार ने हम लोगों को 100% अनुदान पर गायों को उपलब्ध कराया था परंतु गाय लेने पर घर में रखे गए पूंजी भी बर्बाद हो रही है क्योंकि गाय की खुराक के लिए ₹20 किलो से लेकर ₹25 किलो तक का चारा गायों को लाकर खिलाना पड़ता है ऐसे में बोतल बंद पानी से भी कम कीमत पर दूध बेचना हम लोगों के लिए परेशानी का सबब है।

Related Post