Fri. Jun 21st, 2024

त्रिवेणी कंपनी के वर्करों का 3 सूत्रीय मांग का समाधान तथा जेल गए वर्करों को जल्द रिहाई को लेकर बड़कागांव प्रखंड सभागार भवन में त्रिपक्षीय वार्ता संपन्न*   👉किसी भी कीमत पर वर्करों पर जुल्म बर्दाश्त नहीं होगी : अंबा प्रसाद

*त्रिवेणी कंपनी के वर्करों का 3 सूत्रीय मांग का समाधान तथा जेल गए वर्करों को जल्द रिहाई को लेकर बड़कागांव प्रखंड सभागार भवन में त्रिपक्षीय वार्ता संपन्न*

 

👉किसी भी कीमत पर वर्करों पर जुल्म बर्दाश्त नहीं होगी : अंबा प्रसाद

 

👉कंपनी को नया बैज का गठन कर वर्करों का हर बढ़ोतरी लाभ एचपीसी के तहत देने का प्रस्ताव

 

 

 

*बड़कागांव*। बड़कागांव प्रखंड परिसर सभागार भवन में विधायक अंबा प्रसाद की अध्यक्षता में प्रखंड स्तरीय प्रशासनिक पदाधिकारी, थ्रिवेणी सैनिक कंपनी के अधिकारी एवं थ्रिवेणी सैनिक कंपनी में कार्यरत वर्करों के बीच त्रिपक्षीय वार्ता बैठक की गई। बैठक में विधायक अंबा प्रसाद ने कहा कि क्षेत्र की रैयत जमीन नहीं देना चाहती थी बावजूद कंपनी स्थापित हो गई है। लेकिन अब कंपनी को स्थानीय लोगों को जो भी लाभ है वह हर हाल में देना होगा जो रैयत एवं वर्करों का जन्मसिद्ध अधिकार है। विधायक ने बैठक में उपस्थित कंपनी के अधिकारियों को वर्करों एवं कंपनी के बीच एक समन्वय कमेटी गठन कर समस्याओं की समाधान करने की बात कही ताकि कंपनी एवं वर्करों के बीच कोई भ्रांति नहीं हो। सुश्री प्रसाद ने कहा कि जल्द से जल्द नया बैज बनाकर वर्करों को हर बढ़ोतरी लाभ एचपीसी के तहत दिया जाए। बैठक में उन्होंने कहा कि 26 जून के वर्करों पर जो 28 लोगों पर मामला दर्ज हुआ है एवं 19 लोग जेल गए हैं उनकी रिहाई की प्रक्रिया कंपनी एवं प्रशासन को पूरा करना होगा। निकाले गए मजदूरों को वापसी के साथ-साथ 3 सूत्री मांग कंपनी को तो हर हाल में जल्द से जल्द पूरा करना होगा। वर्करों पर किसी प्रकार की जून बर्दाश्त नहीं होगी। जो भी वर्कर को बैठाया गया है उन्हें जल्द से जल्द वापसी के साथ-साथ जेल जाने वाले एवं एवं उनके आश्रितों पर आए आर्थिक संकट को पूरा किया जाय। साथ ही साथ कोर्ट प्रक्रिया में भी आर्थिक सहयोग कंपनी को करनी होगी। इससे पूर्व बैठक में उपस्थित वर्करों ने पूर्व से किए गए 3 सूत्री मांग को पूरा करने एवं 26 जून को धरना प्रदर्शन के दौरान गिरफ्तार जेल भेजे गए 19 वर्करों को जल्द से जल्द रिहाई करवाने की मांग रखा। इस पर कंपनी की ओर से उपस्थित एचआर मैनेजर उत्तम झा ने कहा कि जो भी सहयोग वर्करों को जेल से निकालने के लिए करना होगा किया जाएगा। रही बात 3 सूत्री मांग पत्र में बोनस देने का तो उसमें कंपनी कोल इंडिया की सभी दिशानिर्देशों का अनुपालन करते हुए काम कर रही है। 1 जनवरी 2016 के बाद कोल माइन्स एक्ट के तहत जिनकी सैलरी 21000 से ऊपर है उन्हीं का बोनस देने का प्रावधान है। अभी तक किसी भी वर्कर को बोनस कंपनी की ओर से नहीं दी गई है। कुछ वर्करों को कटा छटा पैसा मिलने के बाद क्षेत्र में गलत भ्रांति फैलाकर इसे बोनस का स्वरूप बताया गया है जो गलत है। उत्तम झा ने आगे स्पष्ट कहा कि वर्करों द्वारा कंपनी को हानि पहुंचा कर बोनस की मांग करना कहीं से औचित्य नहीं है। 26 जून को दिनभर वार्ता करने का प्रयास के बावजूद वर्करों द्वारा गलती किए जाने के बाद बड़कागांव अंचलाधिकारी के बयान पर मामला दर्ज हुई है। बावजूद कंपनी के बोर्ड मेंबर के साथ बैठक कर वर्करों द्वारा 3 सूत्रीय मांगो पर विचार कर 1 सप्ताह के अंदर सूचित करने की बात उत्तम झा ने कही। प्रखंड प्रशासन पदाधिकारियों ने कहा कि कोर्ट प्रक्रिया के तहत जो भी न्याय संगत कार्रवाई होगी अनुपालन किया जाएगा। बैठक में एसडीपीओ मोहम्मद नेहाल उद्दीन खान, अंचलाधिकारी प्रभात भूषण सिंह, प्रखंड विकास पदाधिकारी रामप्रवेश साव, थ्रिवेणी सैनिक कंपनी के एचआर मैनेजर उत्तम झा, मैंनेजर लाइजनिंग मदनमोहन शर्मा, प्रखंड के प्रधान लिपिक रंजीत राज, दिलदार अंसारी, संदीप सिंह, वर्करों की ओर से उमेश कुमार साव, मोहम्मद ताहिर, कुलेश्वर राम, पदुम साव, सुनील करमाली, समीम अंसारी, साजिद अंसारी, पंकज साव, केशव कुमार, मुस्ताक अंसारी जेल जाने वाले परिजन की ओर से गुलबसा जहां, जिन्नत जाबिर, जुगेश्वरी देवी, लालो देवी, फूलासो देवी सहित अन्य वर्कर उपस्थित थे।

Related Post