Fri. Jun 21st, 2024

महुआडांड़ में झारखंड मुक्ति मोर्चा के कार्यकर्ताओं ने मनाया हूल दिवस।

महुआडांड़ स्थित शहीद चौक के समीप झारखंड मूक्ति मोर्चा के प्रखण्ड कार्यालय में हूल दिवस पर कार्यक्रम आयोजित किया गया। इस दौरान प्रखण्ड अध्यक्ष जुवेल लकड़ा, जिला उपाध्यक्ष मो. मुस्तकीम, केंद्रीय सदस्य महिला मोर्चा अनीता मिंज,युवा मोर्चा जिला उपाध्यक्ष परवेज आलम, अल्पसंख्यक मोर्चा प्रखंड अध्यक्ष सैफ अली, सचिव शहीद अख्तर, समेत कई लोगों के द्वारा सिद्धो-कान्हू, के चित्र पर श्रद्धासुमन अर्पित किया तथा सिदो-कान्हू, चाँद भैरव समेत हूल विद्रोह के सभी सेनानियों को नमन किया l इस अवसर पर प्रखंड अध्यक्ष जुवेल लकड़ा ने कहा कि 30 जून 1855 को सिद्धो-कान्हू ने अंग्रेंजो की गुलामी एवं शोषण से मुक्ति के लिए क्रांति का बिंगुल फूंका था l हूल विद्रोह जनजातीय समाज की अंग्रेजों के खिलाफ आजादी के लिए प्रथम जनक्रांति थी। वहीं जिला उपाध्यक्ष मो. मुस्तकीम ने कहा सिद्धो-कान्हू के आह्वान पर हजारों संथाल आदिवासी अंग्रेजों के खिलाफ विद्रोह में शामिल हुये तथा अपने प्राणों की आहुति दी l हूल विद्रोह ने अंग्रेजी शासन की नींव हिला दी थी l उन्होंने कहा कि वीर शहीदों की कुर्बानी को कभी भूलाया नहीं जा सकता है।इस लेकर हम लोगों के द्वारा हुल दिवस मनाने को लेकर कार्यक्रम का आयोजन किया गया था। मौके पर जेएमएम के सक्रिय सदस्य डब्लू खान,सक्रिय सदस्य अंजर खान, समीर तिर्की,राजन खान, जॉनी जोश कुजुर, प्रदीप उरांव आदि मौजूद थे।

Related Post