Fri. Jun 14th, 2024

शिलान्यास के बावजूद नहीं बना गार्डवाल, कई गांव का अवगमन बाधित वित्तीय वर्ष 2020-21 में स्वीकृत किया गया था एक लाख सत्तर हजार की राशि गारू

*शिलान्यास के बावजूद नहीं बना गार्डवाल, कई गांव का अवगमन बाधित*

 

*वित्तीय वर्ष 2020-21 में स्वीकृत किया गया था एक लाख सत्तर हजार की राशि*

 

*बनाया गया बोड मिट्टी में मिल गया, सड़क की हालत और ही जर्जर*

 

*गारू*:- गारू प्रखंड के बारेसांढ़ पंचायत में बारेसांढ़ -कुजरूम मुख्य पथ (कच्ची सड़क) की हालत जर्जर हो चुकी है। कई जगह लगातार मृदा अपरदन के कारण सड़क गड्ढे में तब्दील हो चुकी है। यादव मोड़ से तेनटांड़ (डेढ़ किलोमीटर) की सड़क में गड्ढे ही गड्ढे नजर आते हैं, जिसका कारण यह है कि सड़क के बिचोबीच ही नाली की तरह वर्षा की पानी बहती है। हालांकि लगभग आठ वर्ष पूर्व सड़क के कुछ भाग को पक्कीकरण किया गया था, परन्तु वह पक्कीकरण के नाम पर भी महज खानापूर्ति किया गया और डेढ़ दो वर्षों में ही मटेरियल बह गया। उसके बाद पुनः ग्रामीणों को कच्ची व जर्जर सड़क का सामना करना पड़ गया।

 

*वित्तीय वर्ष 2020-21 में स्वीकृत किया गया था एक लाख सत्तर हजार की राशि*

पिछले ही वर्ष मिट्टी की काटव को देखते हुए पुल से बेलास राम के घर तक गार्डवाल के लिए लाखों रूपये स्वीकृत किया गया। यहाँ तक की आनन -फानन में उपप्रमुख मीरा देवी के हाथों 29-12-2020 को नये प्रखंड सह अंचल कार्यालय के उदघाटन के दिन ही शिलान्यास करवाया गया। हालांकि बरसात को ताक में रखकर यह कार्य को अब तक पुरा होना चाहिए था, परन्तु अब तो शिलान्यास का बोर्ड भी मिट्टी में मिल गया। हालत इसप्रकार हो गयी है की अगर खेतिबारी हो जाय तब चारपहिया वाहन का चलना नामुमकिन हो जाएगा।

 

*कई सुदूरवर्ती क्षेत्रों का मुख्य सड़क यही है*

लाटू, कुजरूम, तिसिया, हेठडीह जैसे सुदूरवर्ती क्षेत्र का मुख्य सड़क यही है। इसी सड़क के माध्यम से एम्बुलेंस भी उन क्षेत्रों तक पहुँचती है। अगर बरसात में यही गार्डवाल को पूर्ण नहीं किया जाता है, तो निश्चित ही आवागमन बाधित हो जाएगा।

Related Post