सुप्रीम कोर्ट द्वारा गठित टास्क फ़ोर्स को कैट ने ऑक्सीजन पालिसी बनाने सहित अनेक सुझाव भेजे 

0
269

उच्चतम न्यायालय द्वारा देश में ऑक्सीजन की समुचित व्यवस्था के लिए गठित नेशनल टास्क फाॅर्स को आज कॉन्फ़ेडरेशन ऑफ़ आल इंडिया ट्रेडर्स (कैट) ने ऑक्सीजन की देश में उपलब्धता को बढ़ाने और उसके समुचित वितरण के लिए अनेक सुझाव भेजे है ! कैट ने झारखण्ड के पूर्व मुख्य सचिव सह भारत सरकार के कैबिनेट सचिव श्री राजीव गाबा जो टास्क फाॅर्स के चेयरमैन भी हैं को तथा टास्क फाॅर्स के अन्य सभी सदस्यों को एक पत्र भेजकर सुझाव दिया है की इस मुद्दे पर एक ऑक्सीजन पालिसी बनाया जाना बेहद जरूरी है जिसके अंतर्गत देश में वर्तमान में उपलब्ध ऑक्सीजन, उसमें वृद्धि करने के अन्य स्रोत बनाने तथा सभी स्रोतों से प्राप्त ऑक्सीजन का सही तरीके से देश भर में वितरण करने का एक तंत्र बनाया जाए !

कैट के राष्ट्रीय सचिव श्री सुरेश सोन्थालिया ने टास्क फाॅर्स के सदस्यों को भेजे पत्र में कहा है की निश्चित रूप से देश में प्रचुर मात्रा में ऑक्सीजन उपलब्ध है लेकिन उसकी वितरण प्रणाली को चुस्त -दुरुस्त करना होगा वहीँ दूसरी ओर एक ऑक्सीजन पालिसी के तहत हर समय देश भर में ऑक्सीजन उपलब्ध रहे, इस ओर भी ध्यान देना होगा !

श्री सोन्थालिया ने कहा की कोरोना के दौरान इस तरह के संकट और खामियों से सबक लेते हुए एक ऑक्सीजन पालिसी के तहत करोड़ो रुपयों की लागत से बनने वाले अस्पतालों के पास अपना ऑक्सीजन प्लांट होना तथा ऑक्सीजन सिलेंडर का पर्याप्त स्टॉक रखने का गोदाम अनिवार्य होना चाहिए !मध्यम श्रेणी और छोटे अस्पताल आपस में पूल कर के पूल में शामिल अस्पतालों की आवश्यकता की पूर्ति हेतु ऑक्सीजन प्लांट लगाएं जिससे सभी पूल में शामिल सभी अस्पतालों को ऑक्सीजन मिल सके ! बिजली ग्रिड की तर्ज़ पर एक नेशनल ऑक्सीजन ग्रिड भी बनाया जाए। रेलवे नियमित तौर पर ऑक्सीजन एक्सप्रेस चलाये ताकि देश भर में जीवन दायनी ऑक्सीजन समय पर पहुचती रहे।

श्री सोन्थालिया ने यह भी सुझाव दिया की ऑक्सीजन सिलेंडर बनाने के नए प्लांट को प्राथमिकता के आधार पर मजूरी दी जाए ताकि सिलेंडरों की कमी को दूर किया जा सके।ऑक्सीजन सिलेंडरों के लिए हर वक़्त “ग्रीन कॉरिडोर” खुला रहे, ऐसा कानून में प्रावधान किया जाए।प्रत्येक बड़ी हाउसिंग सोसायटी, क्लब ,रिजॉर्ट, होटल ,स्टेडियम और बाजारों में उनकी क्षमता के हिसाब से एक मेडिकल रूम बनाना अनिवार्य किया जाए, जहां 1-2 बेड ,ऑक्सीजन सिलेंडर और वेंटिलेटर जैसी जरूरी चिकित्सा सुविधाओं को उपलब्ध किया जाए!

श्कैट ने यह भी सुझाव दिया की नेशनल इंस्टीट्यट ऑफ़ डिज़ाइन एवं नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ़ फैशन एंड ट्रेनिंग से कम कीमत वाली छोटी एंबुलेंस के डिजाइन बनवाये जाएँ और ऑटोमोबाइल निर्माताओं से उन डिज़ाइन के अनुरूप एम्बुलेंस बनवाई जाएँ जो छोटे शहरों में भी चल सके और छोटी सड़कों पर भी आसानी से चल सके ताकि देश के किसी भी हिस्से में ऑक्सीजन आसानी से पहुंचे जा सके ! देश के हर छोटे-बड़े शहरों में बड़ा या छोटा शहर की क्षमता के अनुसार एक ऑक्सीजन प्लांट बनाना अनिवार्य किया जाए !

श्री सोन्थलिया ने कहा की छोटी बड़ी चिकित्सा सुविधाएं जो जरूरत पर अभाव के चलते बहुत बड़ी लगती है, उनको फौरन पूरा करने के लिए मानव संसाधन बढ़ाने के योजना विशेषज्ञ बनाएं। विपरीत परिस्थितियों में छोटी-बड़ी मेडिकल इमरजेंसी के दौरान आस पड़ोस में रहने वाले लोग ही काम आ जाए इसके लिए नर्सिंग, वेंटिलेटर ऑपरेटर ,टेक्नीशियन आदि जैसी विद्याओं से जुड़े लोगों को 3 महीने 6 महीने 9 महीने और 12 महीने के सर्टिफिकेट और डिप्लोमा कोर्सेज से करवाए जाएँ ! छोटे शहरों में जहाँ बड़े अस्पताल नहीं हैं वहां इस प्रकार के लोग बड़ी मात्रा में चिकित्सा से जुड़ी सेवाएं तुरंत दे सकते हैं !