आज लॉकडाउन से 412 वा दिन एवं अनलॉक 5 में, कोरोना का दूसरा लहर में टीम संघर्ष परिवार लगातार अपनी सेवाएं प्रदान कर रहे हैं

0
307

Abhijit sen–potka

Jamshedpur—-

आज लॉकडाउन से 412 वा दिन एवं अनलॉक 5 में, कोरोना का दूसरा लहर में टीम संघर्ष परिवार लगातार अपनी सेवाएं प्रदान कर रहे हैं अपने और अपने परिवार की चिंता छोड़ टीम सघंर्ष परिवार के कोरोना योद्धा निकल पड़ा साकची गुरुद्वारा परिसर में,मॉडर्न स्कूल में बना कोबिड केयर सेंटर सह आइसोलेशन सेंटर, दस बेड ऑक्सीजन युक्त,उस पूरे परिसर को उच्च गुणवत्ता वाला सैनिटाइज किया गया. सेंट्रल गुरुद्वारा प्रबंधक कमिटी,टीम सघंर्ष एवं रोटरी क्लब दलमा के सहयोग से लगातार इस सेंटर में सेवाएं प्रदान किया जा रहा है.जहां अभी तक 36 मरीज यहां दाखिला लिए जिसमें 4 मरीज को बेहतर चिकित्सा के लिए अन्य अस्पतालों में रेफर किया गया,वहीं 30 मरीज पूर्णतया स्वास्थ्य लाभ कर अपने घर के और प्रस्थान कर गए.टीम सघंर्ष परिवार के अभिभावक जाने-माने समाजसेवी डॉ विजय मोहन सिंह जी का पूर्ण रुप से सहयोग इस कोवीड केयर सेंटर को मिल रहा है. जिन्होंने लगभग एक साल में ही अपने निस्वार्थ भाव से सेवा का परिचय देकर जमशेदपुर के हर एक लोगों के दिलों में अपनी एक अलग पहचान बनाई है.आज भी निस्वार्थ भाव से एमजीएम अस्पताल के कोविड केयर सेंटर के मुख्य जिम्मेदारी भी निभा रहे हैं. इसके पश्चात टीम सघंर्ष परिवार के अभिभावक श्रीमान दीपक मित्रा दा के आग्रह पर भी रानीकुदर स्थित उनके घर जाकर उनके घर को भी पूर्ण रूप से सैनिटाईज किया गया. इस दौरान उपस्थित रहे समाजसेवी डॉ विजय मोहन सिंह,सीजीपीसी के प्रधान श्रीमान गुरमुख सिंह मुखे जी,अरिजीत सरकार,विजन सरकार एवं अजित कुमार भगत.कोरोना के पहले लहर के समय से ही टीम सघंर्ष परिवार ने विभिन्न दिशाओं में कार्य करते हुए अपनी एक अलग पहचान बनाई है.चाहे वह रक्तदान का मामला हो,अपने कई सहयोगी संस्थाओं को साथ लेकर अभी तक करीब 5000 यूनिट से अधिक रक्त संग्रहित कर जमशेदपुर ब्लड बैंक को सुपुर्द किया गया.शहर से लेकर सुदूरवर्ती गांव जहां सबका पहुंचना भी असंभव था वहां पहुंचकर हजारों परिवारों के बीच राशन प्रदान करना हो,एक लाख से अधिक मास्क प्रदान करना हो,वर्ष के 290 बेला 50 पीड़ित एवं असहाय लोगों के लिए भोजन की व्यवस्था करना हो,कोरोना के प्रथम लहर से लेकर दूसरे लहर तक प्लाज्मा रक्तदान के लिए जागरूकता अभियान एवं साथ ही साथ,दुल्हन जैसा सजाया हुआ गाड़ी में प्लाज्मा रक्त दाताओं को घर से लाकर जमशेदपुर ब्लड बैंक में रक्तदान कराते हुए वापस उन्हें सुरक्षित घर पहुंचाना,24 घंटे सेवाएं देने हेतु तत्पर रहते हुए किसी के घर राशन,सब्जी,दवा आदि पहुंचाते हुए कभी भी पीछे मुड़कर नहीं देखा.